हॉट स्टोन मसाज के फायदे: हॉट स्टोन मसाज शरीर की कई समस्याओं में फायदेमंद होता है।

हॉट स्टोन मसाज के फायदे: हॉट स्टोन मसाज शरीर की कई समस्याओं में फायदेमंद होता है।

हॉट स्टोन मसाज के फायदे: हॉट स्टोन मसाज मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने के साथ-साथ ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करता है।

नई दिल्ली। हॉट स्टोन मसाज के फायदे: छोटे बच्चों से लेकर बड़ों तक, कई शारीरिक समस्याओं से राहत दिलाने और मांसपेशियों को आराम देने के लिए मालिश को प्राचीन काल से ही एक शक्तिशाली प्राकृतिक उपचार माना जाता रहा है। कई समस्याओं में मालिश को दवाओं का विकल्प भी माना गया है। मालिश का एक नया चलन माना जाने वाला हॉट स्टोन मसाज आज पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया है। इस थेरेपी के दौरान जो शरीर और मांसपेशियों को आराम देती है, फ्लैट और गर्म पत्थरों को शरीर के विभिन्न हिस्सों जैसे पेट, चेहरे, छाती, रीढ़, हथेलियों, पैरों पर रखकर मालिश की जाती है। तो आइए जानते हैं हॉट स्टोन मसाज के कई फायदों के बारे में।

हॉटस्टोनथेरेपी.jpg

यह भी पढ़ें: 7 मिनट में कैलोरी कम करें

हॉट स्टोन मसाज की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इस मसाज से मांसपेशियों के बीच बनने वाले तनाव को तुरंत कम किया जा सकता है। जिससे मांसपेशियों के दर्द में आराम मिलता है। हॉट स्टोन मसाज मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने के साथ-साथ ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा जिन लोगों को नींद की समस्या होती है उनके लिए भी यह एक बेहतरीन उपाय है। क्योंकि इससे आपके पूरे शरीर को आराम मिलता है, जिससे रात को अच्छी नींद आती है।

body_relax.jpg

एक अध्ययन के अनुसार तनाव और चिंता को दूर करने में भी हॉट स्टोन मसाज फायदेमंद होती है। साथ ही सिर्फ 10 मिनट की हॉट स्टोन मसाज हृदय संबंधी जटिलताओं को कम करने में मददगार हो सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार ऑटोइम्यून बीमारी के लक्षणों को कम करने में भी यह मसाज थेरेपी काफी कारगर साबित हो रही है। शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द या गठिया के दर्द से राहत पाने के लिए गर्म पत्थर की मालिश भी अच्छी मानी जाती है।

इसके अलावा एक स्टडी में यह भी पाया गया है कि इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए स्वीडिश हॉट स्टोन मसाज फायदेमंद हो सकती है। स्वीडिश हॉट स्टोन मसाज का इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज में भी किया जाता है। इतना ही नहीं इस मसाज से मांसपेशियों में लचीलापन बढ़ने के साथ-साथ मोशन का दायरा भी बढ़ता है।

स्व-प्रतिरक्षित रोग.jpg







,

Source link

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here