हत्या के बाद आरोपी हथियार लहराता भागा, लोगों ने पत्थर फेंक तमंचा गिराया, दौड़ाकर पकड़ लिया

हत्या के बाद आरोपी हथियार लहराता भागा, लोगों ने पत्थर फेंक तमंचा गिराया, दौड़ाकर पकड़ लिया

छात्रा पर बातचीत का दबाव बनाया, नहीं मानी ताे पहले चाकू फिर गाेली मारकर हत्या कर दी। लोगों को पिस्ताैल दिखाकर डराया।

सनक; युवती की गर्दन-पेट पर चाकू से वार फिर तीन गोलियां मारीं

साहस; घायल युवती को व्यापारियों ने स्कूटी से अस्पताल पहुंचाया

एकतरफा प्रेम की सनक ने शनिवार को एक युवती की जान ले ली। नफरत की इंतहा देखिए- आरोपी विष्णु चौधरी ने भीड़ भरे माहौल में चाकू से गर्दन और पेट पर दो वार किए। दिलेर युवती ने चाकू लगने के बाद भी हार नहीं मानी और जीने की जिद जारी रखी। आरोपी ने तीन गोलियां भी दाग दीं। पहली गोली उसके हाथ को छूकर दीवार में लगी।

दूसरी उसके पेट के आर-पार हो गई। तीसरी गोली का खोल नहीं मिला है। युवती की पीठ पर भी फायर का निशान है। आदर्शनगर थाना इलाके में मुख्य सड़क पर हुई इस दिल दहला देने वाली घटना के बाद युवती काे बचाने और आराेपी काे पकड़ने के लिए लाेगाें ने काफी हिम्मत दिखाई।

एंबुलेंस का इंतजार किए बिना दाे युवक एक्टिवा पर युवती काे लेकर एसएमएस हाॅस्पिटल पहुंचे, जहां डाॅक्टराें ने उसे मृत घाेषित कर दिया। वहीं, आराेपी भीड़ को हथियार दिखाता हुआ भाग निकला। लोगों ने पत्थर फेंक कर उसके हाथ से तमंचा नीचे गिरा दिया और उसका पीछा करते हुए 200 मीटर दूर ही पकड़कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

आंखों देखी; वारदात के गवाह; युवती को अस्पताल ले जाने वाले और आरोपी को पकड़ने वाले

चाकू के वार से युवती चिल्लाई तो हम उसे बचाने भागे, उसके (आरोपी) सिर पर तो खून सवार था, वह गोलियां दागने लगा; अफसोस हम उसे बचा नहीं पाए

प्रत्यक्षदर्शी 1; हम सामने ही खड़े थे। युवक-युवती आपस में बात कर रहे थे। अचानक दोनों में कहासुनी होने लगी थी। युवक ने भीड़ की परवाह भी नहीं की और चाकू निकालकर ताबड़तोड़ दो वार कर दिए। हम आगे जाने लगे तो उसने गोलियां चला दीं। उसके (युवक) सिर पर तो खून सवार था। लड़का वहां से भीड़ को तमंचा दिखाता हुआ भाग गया। हम लड़की की ओर भागे, उसे उठाया और स्कूटी से एसएमएस अस्पताल ले गए। अफसोस हम उसे बचा नहीं पाए।
प्रत्यक्षदर्शी 2; हमने आरोपी की तरफ पत्थर फेंके ताकि वह पिस्तौल फेंक दे। लेकिन वह पिस्तौल लहराते हुए मोती डूंगरी थाने वाली गली तक भाग गया। हम भी पीछे भागे। इस दौरान वह मुख्य सड़क पर गाड़ियों के सामने भी लेटा। पिस्तौल गिरते ही हमने उसे पकड़ लिया। तभी लोगों ने पकड़कर उसकी पिटाई की और पुलिस को सौंप दिया। (मदद करने वाले और आरोपी को पकड़ने वाले चारों हीरो के नाम हम सुरक्षा कारणों से नहीं छाप रहे)

orig 8 1601151415

एडिशनल डीसीपी मनोज चौधरी ने बताया कि आरोपी विष्णु चाैधरी मूलत: धाैलपुर और हाल टाेंक फाटक निवासी है, जबकि गरिमा मूलत: झुंझुनूं निवासी थी और मानसराेवर में किराए से रहती थी। एक साल पहले दोनों कोचिंग में मिले थे। विष्णु तब से ही गरिमा पर बातचीत के लिए दबाव बना रहा था।

गरिमा शनिवार सुबह आदर्श नगर स्थित वैदिक कन्या काॅलेज में बीएससी फाइनल ईयर का पेपर देने आई थी। विष्णु कॉलेज के बाहर बात करने के लिए रुका हुआ था। गरिमा ने मना किया तो उसने हमला कर दिया। पुलिस काे माैके पर खून से सना माेबाइल, कारतूस, चाकू व पिस्तौल भी मिल गई है। आरोपी विष्णु जयपुर में किराए पर रहकर सिविल सर्विसेज की तैयारी करने के साथ ही एक कंपनी में काम करता है।