भारतीय शोधकर्ता ने असमिया रेशम से बनाया कृत्रिम ऊतक, चिकित्सा विज्ञान में होगा इस्तेमाल

भारतीय शोधकर्ता ने असमिया रेशम से बनाया कृत्रिम ऊतक, चिकित्सा विज्ञान में होगा इस्तेमाल

चिकित्सा के क्षेत्र में मूगा सिल्क बेहद कारगर आविष्कार है, इससे दिल के मरीजों की जान बचेगी।

श्रेया ने एक कृत्रिम MUGA कार्डियक टिश्यू पैच विकसित किया है। इस पैच को मरीज के दिल में आसानी से प्रत्यारोपित किया जा सकता है। वे बहुत ही वास्तविक दिखने वाले हृदय ऊतक और मांसपेशियों को बनाने में सफल रहे हैं जो वास्तविक मांसपेशियों के समान हैं।

यह भी पढ़ें: देश में अभी टला नहीं है कोरोना का खतरा, 24 घंटे में सामने आए 62375 मामले

मूगा रेशम एक प्रोटीन युक्त बायोपॉलिमर है जो भारत में पाए जाने वाले विशेष रेशमकीट एंथेरा एसेंमेन्सिस से बना है। इस रेशम का उपयोग करके भारतीय शोधकर्ता श्रेया मेहरोत्रा ​​​​हृदय शल्य चिकित्सा में ऊतक को प्रत्यारोपित करने में सफल रही हैं। वह तमिलनाडु के वेल्लोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में टिशू इंजीनियरिंग में रिसर्च स्कॉलर हैं। ‘फुल ब्राइट नेहरू स्कॉलर’ और बायोटेक्नोलॉजी में बीटेक श्रेया मुगा सिल्क से ह्यूमन टिश्यू बनाने पर रिसर्च कर रही हैं। वह मुगा सिल्क से विभिन्न बीमारियों से पीड़ित मरीजों को बचाने का काम कर रही हैं। इसमें मस्कुलर डिस्ट्रॉफी और हार्ट अटैक शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: भारत ने कैसे जीती कोरोना के खिलाफ जंग, विशेषज्ञों ने दिए 8 सुझाव और कहा- इसे तुरंत लागू करें

Muga के लाभों की खोज करें
आईआईटी गुवाहाटी में पीएचडी करते हुए, उन्होंने हृदय की मांसपेशियों के ऊतकों को पुन: उत्पन्न करने के लिए जैविक इंजीनियरिंग पर ध्यान केंद्रित किया। श्रेया का कहना है कि मुगा सिल्क में बहुउद्देशीय गुण होते हैं जो प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले किसी अन्य पदार्थ में नहीं पाए जाते। इसमें शारीरिक गति, जैव रसायन, कम प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया और आंतरिक सेलुलर बांड को मजबूत करने के गुण हैं। श्रेया ने पूरी तरह कार्यात्मक ‘सिल्क कार्डिएक पैच’ बनाने की तकनीक विकसित करने में भी सफलता हासिल की है।

लिविंग हार्ट टिश्यू कॉम्प्लेक्स बनाना
श्रेया का कहना है कि पूरी तरह से काम करने वाले हार्ट टिश्यू बनाना बेहद चुनौतीपूर्ण है। अपने शोध के दौरान, उन्होंने एक स्वचालित 3D बायोप्रिंटिंग प्रक्रिया का उपयोग करके एक कृत्रिम MUGA कार्डियक पैच विकसित किया। इस पैच को हृदय रोगी में आसानी से प्रत्यारोपित किया जा सकता है। श्रेया ने कई छोटे जानवरों पर कृत्रिम ऊतक (कार्डियक पैच टेस्ट) का भी परीक्षण किया है। उनका अगला कदम इन ऊतकों का सही मेल विकसित करना है।



.

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here