नासा की चेतावनी, धरती की ओर बढ़ रहा खतरनाक क्षुद्रग्रह | नासा की चेतावनी, धरती की ओर बढ़ रहा खतरनाक क्षुद्रग्रह – भास्कर

  नासा की चेतावनी, धरती की ओर बढ़ रहा खतरनाक क्षुद्रग्रह |  नासा की चेतावनी, धरती की ओर बढ़ रहा खतरनाक क्षुद्रग्रह - भास्कर

डिजिटल डेस्क, वाशिंगटन। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक ऐसे क्षुद्रग्रह के गुजरने की चेतावनी दी है जिसका आकार फ्रांस के एफिल टॉवर से भी बड़ा है, जो दुनिया की सबसे ऊंची इमारत है। आपको बता दें कि नासा ने इस क्षुद्रग्रह को संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रह की श्रेणी में रखा है। इस क्षुद्रग्रह को संभावित खतरनाक क्षुद्रग्रह के रूप में वर्गीकृत किया गया है। अगर यह एस्टेरॉयड धरती से टकराता है तो इसके परिणाम भयावह हो सकते हैं, लेकिन राहत की बात यह है कि यह हमारी धरती से बहुत दूर गुजर जाएगा। आपको बता दें कि पृथ्वी के पास से गुजरने के बाद क्षुद्रग्रह यहां कम से कम 10 साल तक वापस नहीं आएगा।

क्षुद्रग्रह का नाम 4660 Nereus है।

गौरतलब है कि वैज्ञानिकों के अनुसार इस क्षुद्रग्रह का नाम 4660 Nereus है। इसका आकार फुटबॉल की पिच से लगभग तीन गुना बढ़ गया है। नासा के अनुमान के मुताबिक, यह 11 दिसंबर तक पृथ्वी के काफी करीब से गुजरेगा। इस क्षुद्रग्रह की दूरी 3.9 मिलियन किलोमीटर है यानी पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की दूरी का 10 गुना। क्षुद्रग्रह 330 मीटर लंबा है। एक रिपोर्ट के हवाले से यह भी बताया गया है कि अंतरिक्ष में मौजूद 90 फीसदी क्षुद्रग्रह इससे छोटे हैं।

नेरेस अपोलो समूह का एकमात्र क्षुद्रग्रह सदस्य है।

बता दें कि रिपोर्ट में बताया गया है कि नेरेस वर्ष 1982 में खोजे गए अपोलो समूह का एकमात्र सदस्य है। यह सूर्य की कक्षा से होकर पृथ्वी के पास से भी गुजरेगा, जैसा कि पहले के क्षुद्रग्रह करते रहे हैं। फिलहाल अच्छी बात यह है कि 11 दिसंबर तक पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरने वाला यह एस्टेरॉयड पृथ्वी के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करेगा।

एक क्षुद्रग्रह क्या है?

आपको बता दें कि किसी क्षुद्रग्रह को किसी ग्रह या तारे का टूटा हुआ टुकड़ा माना जाता है। ये पत्थर या धातु के टुकड़े होते हैं, जो एक छोटे पत्थर से लेकर एक मील बड़ी चट्टान तक और कभी-कभी एवरेस्ट के आकार तक के हो सकते हैं। आकाश में कभी-कभी बड़ी तेजी से एक ओर से दूसरी ओर गति करते हुए या पृथ्वी पर गिरते हुए जो वस्तुएं दिखाई देती हैं उन्हें उल्का कहा जाता है और आम बोलचाल की भाषा में ‘टूटे हुए तारे’ या ‘लुका’ कहलाते हैं। ऐसा माना जाता है कि हमारे सौर मंडल में लगभग दो मिलियन क्षुद्रग्रह घूम रहे हैं।

.

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here