टाटा स्टील ने कर्मचारियों को दी बड़ी सुविधा, बेटा, बेटी या दामाद कर सकेंगे नौकरी ट्रांसफर

TATA STEEL ने कर्मचारियों को दी बड़ी सुविधा, बेटा, बेटी या दामाद को ट्रांसफर कर सकेंगे जॉब

ईएसएस और नौकरी के लिए नौकरी योजना: टाटा स्टील प्रबंधन 1 नवंबर से अपने कर्मचारियों के लिए एक नई योजना लेकर आ रहा है, जिसके तहत कर्मचारी अब अपने बेटे, बेटी, दामाद या किसी और को अपनी नौकरी हस्तांतरित कर सकेगा। .

नई दिल्ली। देश की जानी-मानी कंपनी Tata Steel अपने कर्मचारियों को एक बड़ी सुविधा देने जा रही है, जिसके तहत Tata Steel के कर्मचारी अब एक निश्चित अवधि के लिए अपनी सेवा देने के बाद सेवानिवृत्ति से पहले अपने बच्चों और आश्रितों को अपनी सेवा हस्तांतरित कर सकेंगे। इसके लिए कंपनी जॉब फॉर जॉब नाम की स्कीम ला रही है। टाटा स्टील की ओर से यह सुविधा उन लोगों के लिए दी जा रही है जो समय से पहले रिटायरमेंट लेना चाहते हैं। ऐसे लोगों को जीवन भर लाभ प्राप्त करने के लिए ईएसएस (अर्ली सेपरेशन स्कीम) योजना शुरू की जा रही है। इन दोनों योजनाओं को मिलाकर इसे स्वर्ण भविष्य की योजना का नाम दिया गया है।

टाटा स्टील प्रबंधन की ओर से कर्मचारियों को एक और बड़ी सुविधा दी जाने वाली है, जिसके तहत कर्मचारियों को जनवरी से पुरी में गेस्ट हाउस की जगह होटल की सुविधा मिल जाएगी. कंपनी प्रबंधन के शीर्ष तीन (अध्यक्ष, महासचिव और उपाध्यक्ष) और टाटा वर्कर्स यूनियन के बीच मंगलवार को हुई बैठक में इस संबंध में सहमति बन गई है।

यह भी पढ़ें:- कोल इंडिया भर्ती 2021: कोल इंडिया में बंपर भर्ती, ऐसे करें आवेदन

बताया जा रहा है कि 1 नवंबर, 2021 से लागू होने वाली ईएसएस योजना का लाभ 40 साल की उम्र तक पहुंच चुके कर्मचारी ही उठा पाएंगे. साथ ही अगर विभागीय मुखिया उन्हें रिहा करने की इजाजत देते हैं. ईएसएस लेने वाले कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति की उम्र तक हर महीने बेसिक और डीए मिलता रहेगा।

नौकरी के लिए नौकरी के प्रावधानों में किया गया संशोधन

जॉब फॉर जॉब का लाभ उन कर्मचारियों को मिलेगा, जिनकी आयु 52 वर्ष से अधिक हो गई है। इसके तहत वे नौकरी के एवज में बेटे, बेटी और दामाद के लिए नौकरी की सिफारिश कर सकते हैं। योजना के प्रावधानों में संशोधन किया गया है। अब कर्मचारियों के वार्ड को पहले प्रशिक्षण दिया जाएगा। आपको एआईटीटी परीक्षा पास करनी होगी।

यह भी पढ़ें:- उत्तर प्रदेश में 10वीं पास के लिए बंपर भर्ती, बिना परीक्षा के मिल रही सरकारी नौकरी

ट्रेड अप्रेंटिस का वजीफा 7 से बढ़ाकर 15 हजार

बैठक में वर्ष 2018 बैच के 319 ट्रेड अप्रेंटिस का स्टाइपेंड 7000 रुपये से बढ़ाकर 15000 हजार रुपये प्रतिमाह करने का निर्णय लिया गया है. वर्ष 2018 बैच के ट्रेड अपरेंटिस की एनसीवीटी परीक्षा कोविड के कारण स्थगित कर दी गई थी। कंपनी प्रबंधन और यूनियन के बीच हुए सहमत समझौते के अनुसार कर्मचारियों को 1 जुलाई 2021 से बढ़े हुए वजीफा का बकाया भी मिल जाएगा.

.

Source link

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here