जल्द लगने वाला है साल का आखिरी चंद्रग्रहण, इस राशि के लोगों को हो सकती है परेशानी

जल्द लगने वाला है साल का आखिरी चंद्रग्रहण, इस राशि के लोगों को हो सकती है परेशानी

ज्योतिष के अनुसार सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण का व्यक्ति के जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। साल 2021 में कुल चार ग्रहण होंगे, जिनमें से दो सूर्य ग्रहण और दो चंद्र ग्रहण लगेंगे। हिंदू कैलेंडर के अनुसार साल का पहला चंद्र ग्रहण 26 मई (बुधवार) को लगा था। अब साल का दूसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण 19 नवंबर 2021 (शुक्रवार) को लगने जा रहा है।

यह भी पढ़ें: सर्वार्थसिद्धि, कुमार और रवि योग में मनाया जाएगा दशहरा

चंद्र ग्रहण का समय

यह चंद्र ग्रहण सुबह 11:34 बजे शुरू होगा और शाम 5:33 बजे खत्म होगा। यह आंशिक चंद्र ग्रहण होगा, जो भारत, अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर क्षेत्र में दिखाई देगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है।

इस राशि का होगा बुरा प्रभाव

19 नवंबर 2021 कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि है। ज्योतिषीय गणना के अनुसार इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण वृष और कृतिका नक्षत्रों में लगेगा। ज्योतिषियों के अनुसार इस राशि और इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोगों को बेहद सावधान रहने की जरूरत है। इस राशि के लोगों को वाद-विवाद, क्रोध और फिजूलखर्ची से दूर रहना होगा। इस दौरान वाहन का प्रयोग करते समय सावधानी बरतें।

यह भी पढ़ें: दशहरा पर्व पर इस विजय मुहूर्त में आप जिस भी कार्य की शुरुआत करते हैं उसमें विजय निश्चित है

ग्रहण के समय करें ये काम

ग्रहण के सूतक काल के शुरू से अंत तक भगवान का ध्यान करना चाहिए। भगवान के मंत्रों का जाप करें।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के दौरान नकारात्मकता बढ़ती है, जिससे बचने के लिए भगवान का ध्यान करना अच्छा होता है।

ग्रहण के दौरान किसी भी पके हुए भोजन या किसी भी खाद्य पदार्थ में तुलसी के पत्ते डालने चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पके हुए भोजन में तुलसी के पत्ते डालने से भोजन अशुद्ध नहीं होता है।

घर में गंगाजल का छिड़काव करें। ग्रहण के बाद गंगाजल की कुछ बूंदों को पानी में मिलाकर स्नान करें। सूर्य ग्रहण के बाद दान और दान करना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के दौरान न करें ये काम

ग्रहण में सूतक के समय भगवान की मूर्तियों को नहीं छूना चाहिए। इस दौरान बाल और नाखून नहीं काटने चाहिए।

ग्रहण के समय ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

ग्रहण के समय भोजन नहीं करना चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार स्वस्थ व्यक्ति को इस समय भोजन और पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। इस समय वे लोग भोजन और पानी ले सकते हैं जिनका स्वास्थ्य अच्छा नहीं है या जिनका स्वास्थ्य खराब है। इसके अलावा बच्चे और बुजुर्ग भी भोजन और पानी का सेवन कर सकते हैं।

– प्रिया मिश्रा

.

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here