घाव भरने से लेकर त्वचा तक, गेंदे के फूल की चाय, जानिए कई चमत्कारी फायदे और इसे बनाने का सही तरीका

विदेश में तापसी पन्नू का देसी अंदाज, जानें- हर जगह क्यों चर्चा में है ये साड़ी लुक

गेंदे के फूल की चाय के स्वास्थ्य लाभ: आज तक आपने घर की बालकनी को सजाने के लिए गेंदे के फूल खरीदे होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि गेंदे के फूलों से बनी चाय आपकी सेहत और खूबसूरती से जुड़ी कई समस्याओं को भी दूर कर सकती है। सुनने में थोड़ा हैरानी होगी लेकिन यह सच है। इसमें त्वचा की हीलिंग, एंटी-इंफ्लेमेशन, एंटी-सेप्टिक और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। गेंदे के फूल की पंखुड़ियों का इस्तेमाल अब तक लोग फेस पैक और हेयर मास्क बनाने में करते आए हैं। लेकिन इन फूलों को विशेष रूप से ट्यूमर अवरोधक और साइटोटोक्सिक प्रभाव के लिए भी जाना जाता है। आइए जानते हैं गेंदे के फूल की चाय पीने के कई अद्भुत स्वास्थ्य लाभ और इसे बनाने का सही तरीका।

गेंदे की चाय पीने के फायदे
घाव जल्दी भरता है

गेंदे के फूलों से बनी चाय का नियमित सेवन त्वचा संबंधी कई समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। यह त्वचा पर घाव को तेजी से भरता है और पिंपल्स, मुंहासे आदि से भी छुटकारा दिलाता है। इसके अलावा यह त्वचा को उम्र बढ़ने से बचाकर रैशेज को ठीक करने में भी मदद करता है।

तनाव दूर करने में मदद करता है-
गेंदे के फूल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण तनाव को कम करने के साथ-साथ ट्यूमर, सूजन, मोटापा, मेटाबॉलिक सिंड्रोम और टाइप 2 डायबिटीज आदि को भी नियंत्रित करने में मदद करते हैं। इसमें मौजूद यौगिक विटामिन ए एंटीऑक्सीडेंट को बढ़ाकर आपकी चाय को स्वस्थ बनाते हैं।

दांत दर्द से राहत
दांत दर्द होने पर गेंदे के फूल की चाय को थोड़ा ठंडा होने दें और इससे गरारे करें। चाय को कुछ देर मुंह में रखें और थोड़ी देर बाद मुंह से थूक दें। ऐसा करने से दांत दर्द से राहत मिलने के साथ-साथ दांतों का संक्रमण भी दूर हो जाता है।

कब्ज से राहत-
गेंदे के फूल की चाय पीने से कब्ज की समस्या, पेट दर्द, एसिडिटी और अपच की समस्या दूर हो जाती है। यह चयापचय गतिविधि के माध्यम से शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है।

झुर्रियों को दूर रखता है
गेंदे के फूल की चाय उम्र के साथ चेहरे पर दिखने वाली झुर्रियों को कम करने में मदद करती है। गेंदे के फूलों में फाइटोकॉन्स्टिट्यूएंट्स होते हैं, जो एंटी-एजिंग की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं। गेंदा ऊतक के पुनर्जनन में अच्छी भूमिका निभाता है, जिससे झुर्रियों से छुटकारा मिलता है।

गेंदे के फूल की चाय बनाने की विधि
गेंदे की चाय बनाने के लिए आपको सबसे पहले 4 से 5 गेंदे के फूल, दो गिलास पानी और शहद की जरूरत होगी। इसे बनाने के लिए सबसे पहले एक पैन में पानी डालकर गैस में उबलने के लिए रख दें. गेंदे के फूल की पंखुड़ियां अलग करके इस पानी में डाल दें। पानी को अच्छे से उबलने दें और कम से कम 5 मिनट के लिए ढककर धीमी गैस पर उबलने दें। अब जब पानी में अच्छी तरह उबाल आ जाएगा तो पानी में गेंदे की पंखुड़ियों का रंग नजर आने लगेगा। इसे तब तक उबालें जब तक पानी आधा न रह जाए। गैस बंद कर दें और इसे शहद के साथ सर्व करें।

अस्वीकरण- इस लेख में दी गई जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया गया है। हम आपसे अनुरोध करते हैं कि कोई भी उपाय आजमाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। हमारा मकसद सिर्फ आपको जानकारी देना है।

.

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here