‘कोतवाल जब चाहे मेरा गाल छूते हैं, कमर पर हाथ लगाते हैं’ महिला कॉन्स्टेबल ने बताई यूपी पुलिस के इंस्पेक्टर की करतूत

'कोतवाल जब चाहे मेरा गाल छूते हैं, कमर पर हाथ लगाते हैं' महिला कॉन्स्टेबल ने बताई यूपी पुलिस के इंस्पेक्टर की करतूत

 

बुलंदशहर: उत्तर प्रदेश में एंटी रोमियो सेल की महिला कॉन्स्टेबल ही सुरक्षित नहीं हैं। लेडी कांस्टेबल ने गुलावठी कोतवाली प्रभारी (एसएचओ) पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़िता का आरोप है कि कोतवाल जब चाहे उसका गाल खीचते हैं, हाथ पकड़ते हैं, कमर पर हाथ कर शारारिक व मानसिक शोषण करते हैं। इस मामले में पीड़िता पुलिस और प्रशासन के आला अफसरों से शिकायत कर चुकी है। अब पीड़िता ने इसकी शिकायत सीएम पोर्टल पर भी की है।पीड़ित महिला कॉन्स्टेबल की मानें तो वर्तमान समय में वह बुलंदशहर के महिला थाने में तैनात है, महिला कांस्टेबल जुलाई 2020 तक गुलावठी कोतवाली में तैनात थी।

आरोप है कि गुलावठी में तैनात यूपी पुलिस का इंस्पेक्टर सचिन मालिक उसके अक्सर गाल खींचता था। कभी कंधे पर हाथ रखता और कभी हाथ पकड़कर अपने पास खींचता। आरोपी कभी थाने आने वाले अपने दोस्तों के साथ फ्रैंडशिप के लिए दबाव बनाता, तो कभी अपने चहेते कांस्टेबल सचिन उज्ज्वल से भी दोस्ती का दबाव बनाता था।जब महिला आरक्षी ने इसका विरोध किया आरोपी महिला आरक्षी के चरित्र पर उंगली उठाने लगा। आरोप है कि थाना प्रभारी सचिन मालिक ने उसको शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी। इतना ही नहीं महिला का थाने से ट्रांसफर होने के बाद भी सचिन मालिक द्वारा उत्पीड़न कम नहीं हो रहा है।

पीड़ित महिला सिपाही की मानें तो मामले की शिकायत एसएसपी व डीएम से की, लेकिन अभी तक दबंग कोतवाल पर कार्रवाई नहीं हुई। अब पीड़िता ने आईजी, डीजी से रंगबाज कोतवाल की शिकायत की है। साथ ही मुख्यमंत्री को भी पोर्टल पर शिकायत कर न्याय व कार्रवाई की गुहार लगाई है।इस मामले में एसएसपी बुलंदशहर संतोष कुमार सिंह ने कहा कि ऐसे मामलों की जांच विशाखा समिति करती है। इसीलिए प्रकरण की जांच विशाखा समिति को दे दी गई है। एक सप्ताह में रिपोर्ट तलब की गई है। विशाखा समिति की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।