कथकली के गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर का निधन, पीएम मोदी ने शोक

कथकली के गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर का निधन, पीएम मोदी ने शोक

highlights

  • 105 साल की उम्र में ली आखिरी सांस
  • 100 साल की उम्र में आखिरी बार स्टेज पर दिखे थे
  • पीएम मोदी ने भी शोक जताया

नई दिल्ली:

जाने माने कथकली नर्तक पद्मश्री गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर (Guru Chemancheri Kunhiraman Nair) का आज निधन हो गया. उन्होंने 105 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया. उन्होंने केरल के कोझिकोड जिले के कोइलांडी में स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली. उनके निधन पर पीएम मोदी (PM Modi) ने शोक जताते हुए भारतीय संस्कृति में उनके योगदान को याद किया. बता दें गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर (Guru Chemancheri Kunhiraman Nair) का कथकली नृत्य विधा में उनके अतुलनीय योगदान रहा है. जहां उन्हें 2017 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था. करीब 5 साल पहले वे आखिरी बार स्टेज पर दिखाई दिए थे.

ये भी पढ़ें- अब 1 लाख बेरोजगारों को नौकरी देंगे सोनू सूद, ये है पूरा प्लान

जून, 1916 को जन्मे नायर ने 1930 में अपनी पहली प्रस्तुति दी थी, जिसके बाद उन्होंने कई दशकों तक कथकली नृत्य को जिया और लगातार प्रस्तुतियां देकर नाम कमाया. 85 सालों से भी ज्यादा समय तक उन्होंने नृत्य प्रस्तुतियां दीं. आखिरी बार उन्हें 5 साल पहले एक कार्यक्रम में देखा गया था. 100 साल की उम्र में भी उन्होंने स्टेज पर उसी तरह का प्रदर्शन किया, जैसे वो उनका पहला कार्यक्रम हो. इस कला को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने अतुल्यनीय कार्य किए. उनके प्रयासों से ही केरल में कई नृत्य स्कूलों की भी शुरुआत हुई है.

पीएम मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया नर्तक गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर (Guru Chemancheri Kunhiraman Nair) के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ. भारतीय संस्कृति एवं आध्यात्मिकता के प्रति उनका अनुराग अप्रतिम था और उन्होंने शास्त्रीय नृत्यों में उभरती मेधा को निखारने में अथक प्रयास किए. उनके परिवार एवं प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. ओम शांति.

ये भी पढ़ें- तब्बू ने ज्वाइन की ‘भूल भुलैया 2’ की टीम, कार्तिक आर्यन ने ऐसे किया स्वागत

पीएम मोदी के अलावा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी गुरु चेमांचेरी कुन्हीरमण नायर के निधन पर शोक जताया. उन्होंने ट्वीट करके लिखा कि वयोवृद्ध कथकली गुरु पद्मश्री गुरु चेमानचेरी कुनिरामन नायर जी के मित्रों और परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं. कला के प्रति उनका अनुकरणीय समर्पण आने वाली पीढ़ियों द्वारा सराहा जाएगा.

बता दें कि नायर को कथकली नृत्य विधा में उनके अतुलनीय योगदान के लिए 2017 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इसके अलावा उन्हें केरल संगीत नाट्य अकादमी और केरल कलामंडलम समेत कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका था. जब भी भगवान कृष्ण और कुलेचा का मंच पर चित्रण किया करते थे, तो दर्शक उनकी बेहतरीन प्रस्तुती देखकर सभी मंत्रमुग्ध हो जाया करते थे.



संबंधित लेख


Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here