आखिर कितने समय तक रखा जा सकता हैं एलपीजी गैस सिलेंडर, जानें यहां

आखिर कितने समय तक रखा जा सकता हैं एलपीजी गैस सिलेंडर, जानें यहां

कई बार आपके मन मे यह सवाल अवश्य आता है कि आप भरे हुए गैस सिलेंडर को घर पर कितने समय के लिए रख सकते हैं। यदि भरे हुए LPG Cylinder को सावधानीपूर्वक रखा जाए तो आप इसे कई वर्षों तक भी घर में रख सकते हैं, इसका कोई खतरा नहीं होगा।

गैस सिलेंडर की उम्र अवश्य देखना चाहिए :

स्पेशलिस्ट के अनुसार, एलपीजी गैस सिलेंडर को कई वर्षों तक घर पर रख सकते हैं। आपको यह अवश्य देखना चाहिए कि उस सिलेंडर की आयु कितनी है। मानकों के अनुसार, गैस सिलेंडर को 10 सालों बाद रिसाइकल किया जाता है, क्योंकि इसमें जंग लगने का खतरा होता है। गैस सिलेंडर पर इसके निर्माण की डेट दर्ज होती है। इसलिए जब आप खाली घर में भरा हुआ सिलेंडर रखते हो तो यह अवश्य देखना चाहिए कि सिलेंडर की उम्र कितनी हो चुकी है।

कैसे रखना चाहिए सिलेंडर को:

यदि आपको एलपीजी गैस सिलेंडर को बहुत दिनों के लिए रखना है तो उसका रेगुलेटर निकालकर उसके उपर कैप की सील लगाकर उसे रखना चाहिए। हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि एलपीजी सिलेंडर को सूखी हुई जगह पर ऱखा जाए। उसे आग और पानी से भी दूर रखना चाहिए।

इतने सालों तक रख सकते हैं?

यदि सिलेंडर की स्थिति ठीक है तो इसमें गैस को 30 साल तक भी आराम से रखा जा सकता है, लेकिन हमें इतने समय तक ऐसा नहीं करना चाहिए। भारत में सिलेंडर की एक्सपायरी डेट 10 साल की है, इसके बाद इसका इंस्पेक्शन किया जाता है। इसके चलते भरे हुए गैस सिलेंडर को बहुत लंबे समय तक घर में रखने से बचना चाहिए।

fe8059cced5c663334d58901ef526b52 1?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

व्यापार-जगत Technology अपने घर पर आखिर कितने समय तक रखा जा सकता हैं एलपीजी गैस सिलेंडर, जानें यहां Brajkishore Bhardwaj

एसबीआई में कैश डिपॉजिट और विड्राल पर लगता है चार्ज, जानिए लिस्ट

क्या आप जानते हैं SBI अपने करोड़ों अकाउंटहोल्डर्स से चार्ज वसूलता है। दरअसल, बैंक अपने ग्राहकों पर पैसे डिपॉजिट करने से लेकर विड्रॉल तक शुल्क लगाता है. बैंक ने एक तय लिमिट बनाई हुई है, उसके बाद अगर किसी ने बैंक में अपने अकाउंट में पैसा डिपॉजिट किए या विड्रॉल तो यह शुल्क देना पड़ता है।

इसके अलग अगर भी एसबीआई अपने ग्राहकों पर पेनाल्टी भी लगाता है। इसी बीच अगर अकाउंटहोल्डर्स कोई भी गलती करते हैं, तो उन्हें पैनाल्टी भरनी पड़ सकती है। इसी बीच अगर आपके पास भी एसबीआई का बैंक अकाउंट  है, तो इन बातों का जरूर रखें।

एसबीआई के अनुसार 1 अक्टूबर 2019 के बाद से अगर किसी ने ऊपर बताई सीमा से ज्यादा बार अकाउंट से पैसा निकाला तो 50 रुपये का चार्ज लगाया जा रहा है। वहीं इस चार्ज पर जीएसटी भी आपको ही देना होगा।

इसके अलावा अगर आपका मिनिमम मंथली बैलेंस 75 फीसदी के नीचे चला जाता है तो आपको 15 रुपये पेनाल्टी के साथ जीएसटी देना होगा।

एसबीआई 1 अक्टूबर 2019 से पैसे जमा करने पर पेनाल्टी वसूल कर रहा है। बैंक सेविंग अकाउंट में महीने में केवल 3 बार ही पैसे फ्री में डिपॉजिट करने की छूट देता है। अगर आप इससे ज्यादा बार पैसे जमा किए तो आप पर चार्ज लगता है। यह चार्ज भी 50 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन यानी हर जमा पर लगाया जाता है। इसके अलावा इस 50 रुपये पर आपको जीएसटी भी देना होगा।

एसबीआई ने होम ब्रांच के अलावा अगर दूसरे किसी ब्रांच में पैसे डिपॉजिट करने के नियम भी बदले हैं। 1 अक्टूबर 2019 से लोग होम ब्रांच के बाहर की ब्रांच में 1 दिन में अपने अकाउंट में 2 लाख रुपये से ज्यादा डिपॉजिट नहीं सकते हैं। अगर ऐसा करते है तो उनको बैंक मैनेजर से विशेष इजाजत लेनी होती है।

अगर आपके बैंक अकाउंट में एवरेज मंथली बैलेंस 25000 रुपये तक है, तो आप केवल 3 बार ही फ्री में अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं। वहीं अगर आपके एसबीआई बैक अकाउंट में एवरेज मंथली बैलेंस 25000 रुपये से लेकर 50000 रुपये तक है, तो आप महीने में 10 बार अकाउंट से फ्री में पैसा निकाल सकते हैं। वहीं 50000 रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक एवरेज बैलेंस होने पर आप 15 बार फ्री में पैसा निकाल सकते हैं। इसके अलावा अगर आपके एसबीआई बैंक खाते में 1 लाख रुपये से ज्यादा का एवरेज बैलेंस है, तो आप चाहे जितनी बार चाहें पैसे निकाल सकते हैं।