अगर आपको झीलों के आसपास घूमने का शौक है तो जानिए देश की मशहूर झीलों के बारे में।

झीलों के आसपास घूमने का शौक रखते हैं तो देश की प्रसिद्ध झीलों के बारे में जान लें

नैनीताल झीलों का शहर है। यहां शहर के बीचोबीच बहती पहाड़ियों से घिरी नैनी झील यहां का मुख्य आकर्षण है जो नैनीताल की खूबसूरती को और बढ़ा देती है। झील के एक तरफ तल्लीताल और दूसरी तरफ मल्लीताल है।

दूर-दूर तक फैली मनोरम झीलों की सुंदरता सभी को भाती है। सरोवर के किनारे पहुंचकर शहर की हलचल से दूर एकांत और प्राकृतिक दृश्यों को देखकर मन में उत्साह की लहरें उठती हैं और काफी हद तक मन का तनाव भी दूर हो जाता है। बच्चे हों या बड़े, पति-पत्नी, प्यार करने वाले जोड़े हों या पूरा परिवार, सभी झील के किनारे सैर के दौरान बैठना चाहते हैं या फिर बोटिंग करना चाहते हैं। आइए हम आपको देश के अलग-अलग जगहों की कुछ प्रमुख झीलों के बारे में बताते हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल की इस खूबसूरत जगह की डरावनी कहानी पढ़कर आपकी रूह कांप जाएगी

नैनीताल झीलों का शहर है। यहां शहर के बीचोबीच बहती पहाड़ियों से घिरी नैनी झील यहां का मुख्य आकर्षण है जो नैनीताल की खूबसूरती को और बढ़ा देती है। झील के एक तरफ तल्लीताल और दूसरी तरफ मल्लीताल है। लोग झील के किनारे दौड़ते हुए सड़क पर घूमना, खाना-पीना, बातें करना और घुड़सवारी का आनंद लेते हैं। झील के किनारे नैना देवी का मंदिर भी है।

उदयपुर झीलों का शहर भी है। शहर की हलचल से कहीं दूर फतेहसागर झील का निर्माण 1678 ई. में हुआ था। इसे महाराणा जय सिंह ने बनवाया था और महाराणा फतेह सिंह ने 1,800 फीट लंबा बांध बनाया था। इसके किनारों पर खूबसूरत पत्थर हैं। इस झील में मोटर बोट या अन्य नावों द्वारा अरावली पर्वत के सुंदर दृश्यों का आनंद लिया जा सकता है। शाम को जगमगाती रोशनी या चांदनी रातें झील के शांत पानी की सुंदरता में चार चांद लगा देती हैं।

झीलों के दौरे के बारे में बात करना और ओडिशा राज्य में पुरी के बारे में भूलना संभव नहीं है। पुरी के दक्षिण-पश्चिम में स्थित सुंदर चिल्का झील को नहीं भूलना चाहिए क्योंकि यह भारत की सबसे बड़ी झील है और 1,100 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है। यह बंगाल की खाड़ी का एक हिस्सा है और कई द्वीपों और पहाड़ियों के साथ एक खूबसूरत झील है।

आप अजमेर में मौजूद पुष्कर झील के भी दर्शन कर सकते हैं। पुष्कर याद करने की जगह है। सूर्यास्त का नजारा, लोक संस्कृति, रेगिस्तान की मिट्टी, सुरम्य पुष्कर झील और पुष्कर मेला, भगवान ब्रह्मा का सबसे पुराना मंदिर आदि यहां देखने को मिलेंगे। पुष्कर झील यहां का मुख्य आकर्षण है। झील के चारों ओर अर्धचंद्राकार सीढ़ियों के साथ 52 घाट और मंदिर हैं। इन घाटों से झील के किनारे पूरी झील की परिक्रमा की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: जिपलाइनिंग है एडवेंचर स्पोर्ट, पर्यटकों ने किया खूब लुत्फ

महाराष्ट्र में सह्याद्री पर्वतमाला की गोद में बसी महाबलेश्वर में स्थित वेन्ना झील अपनी बेमिसाल खूबसूरती के लिए मशहूर है। इस झील में बोटिंग का भी मजा है। यहां पैडल बोट और मोटरबोट किराए पर उपलब्ध हैं। झील के किनारे मुंबई की चौपाटी का भी आनंद लिया जा सकता है। यहां का शाम का नजारा बेहद खूबसूरत होता है और यहां घुड़सवारी का मजा भी लिया जा सकता है।

दक्षिण भारत के खूबसूरत हिल स्टेशन कोडईकनाल में स्थित झीलें भी बेहद खूबसूरत हैं। पूरा कोडईकनाल मात्र दो-तीन किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां के झरनों और झीलों का खूबसूरत नजारा किसी भी पर्यटक को अपनी ओर आकर्षित करता है। विशेष रूप से कोडाइकनाल की झील अपने तारे जैसी बनावट और सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। इस झील में बोटिंग और झील के किनारे घुड़सवारी का मजा लिया जा सकता है। कुरिंजी कोडाइकनाल में एक अनूठा पौधा है, जो 12 साल में फूलता है।

– सुंदर हे

,

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here