नस्लभेद की बात पर भी आखिर क्यों शांत है इंग्लिश फुटबाल

Facebook


इंग्लिश फुटबाल की कोई भी संस्था नस्लभेद के खिलाफ लड़ने के लिए कुछ नहीं कर रही है. यह कहना है फुटबाल में समानता के लिए काम करने वाली संस्था ‘किक इट आउट’ के डेवलपमेंट हेड ट्रॉय टाउनसेंड का. ट्रॉय ने स्काई स्पोर्ट्स के शो द फुटबाल पर कहा, “अगर इस तरह के वाकये हो रहे हैं तो हम में से कोई कुछ नहीं कर रहा है.”

जानकारी के लिए हम बता दें कि इस बारें में उन्होंने कहा, “जब बुल्गारिया में, मोंटेनग्रो में हुए हादसों में हमारी राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ी प्रभावित हुए थे तब हम उन्हें चुनौती देने के लिए तुरंत तैयार हो गए थे. हम उसकी आलोचना कर रहे थे और कड़ी से कड़ी सजा चाहते थे.”

उन्होंने कहा, “जब यह हमारे देश में लौट कर आया तो हम उस तरीके से इससे नहीं निपट रहे हैं जिस तरीके से हमें उससे निपटना चाहिए.” अमेरिका में पुलिस हिरासत में हुई अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से नस्लभेद के खिलाफ एक बार फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं.

इंग्लिश फुटबाल की कोई भी संस्था नस्लभेद के खिलाफ लड़ने के लिए कुछ नहीं कर रही है. यह कहना है फुटबाल में समानता के लिए काम करने वाली संस्था ‘किक इट आउट’ के डेवलपमेंट हेड ट्रॉय टाउनसेंड का. ट्रॉय ने स्काई स्पोर्ट्स के शो द फुटबाल पर कहा, “अगर इस तरह के वाकये हो रहे हैं तो हम में से कोई कुछ नहीं कर रहा है.”

जानकारी के लिए हम बता दें कि इस बारें में उन्होंने कहा, “जब बुल्गारिया में, मोंटेनग्रो में हुए हादसों में हमारी राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ी प्रभावित हुए थे तब हम उन्हें चुनौती देने के लिए तुरंत तैयार हो गए थे. हम उसकी आलोचना कर रहे थे और कड़ी से कड़ी सजा चाहते थे.”

उन्होंने कहा, “जब यह हमारे देश में लौट कर आया तो हम उस तरीके से इससे नहीं निपट रहे हैं जिस तरीके से हमें उससे निपटना चाहिए.” अमेरिका में पुलिस हिरासत में हुई अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से नस्लभेद के खिलाफ एक बार फिर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं.