Whatsapp में आया बग, करोड़ों यूजर्स के फोन नंबर पर मंडरा रहा है खतरा

Facebook


अगर आप मैसेजिंग के लिए व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं, तो यह खबर आपके लिए है। व्हाट्सएप के प्लेटफॉर्म पर बग पाया गया है, जिसकी वजह से करोड़ों यूजर्स के फोन नंबर गूगल पर प्रकाशित हो गए हैं। इस बात की जानकारी साइबर कंपनी के सिक्योरिटी विशेषज्ञ अतुल जयराम के आधिकारिक ब्लॉग पोस्ट से मिली है। इस पोस्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, व्हाट्सएप में आए बग के कारण 29,000 से 30,000 यूजर्स के मोबाइल नंबर गूगल पर टेक्स्ट फॉर्मेट में दिखाई दे रहे हैं।

साइबर विशेषज्ञ अतुल जयराम का कहना है कि व्हाट्सएप में आए इस बग ने अमेरिका, भारत समेत दुनिया के कई देशों के यूजर्स को प्रभावित किया है। साथ ही यूजर्स का डाटा ओपन वेब पर उपलब्ध हो गया है, जिसे आसानी से एक्सेस किया जा सकता है। उनका आगे कहना है कि क्लिक-टू-चैट फीचर के कारण भी मोबाइल नंबर पर हैकिंग का खतरा बना हुआ है। वहीं, फेसबुक ने इस बग को लेकर कहा है कि यूजर्स का डाटा पूरी तरह से सुरक्षित है। कंपनी ने आगे कहा है कि गूगल पर उन यूजर्स के नंबर दिख रहे हैं, जिन्होंने अपनी मर्जी से नंबर पब्लिश करने का फैसला लिया है।

क्लिक-टू-चैट फीचर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि व्हाट्सएप के क्लिक-टू-चैट फीचर के जरिए यूजर्स वेबसाइट पर विजिटर्स के साथ आसानी से चैट कर सकते हैं। इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को क्यूआर कोड स्कैन करना पड़ता है। इसके बाद यूजर्स यूआरएल पर क्लिक करके चैट कर पाते हैं। साइबर विशेषज्ञ अतुल जयराम ने कहा है कि क्लिक-टू-चैट फीचर की वजह से गूगल पर मोबाइल यूजर्स के नंबर टेक्स्ट फॉर्मेट में दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावा कई यूजर्स के फोन नंबर यूआरएल के साथ दिखाई दिए हैं। उन्होंने आगे कहा है कि अगर यूजर्स के फोन नंबर गूगल पर दिखाई देते रहेंगे, तो इससे डाटा चोरी होने का खतरा बहुत बढ़ जाएगा।

अगर आप मैसेजिंग के लिए व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं, तो यह खबर आपके लिए है। व्हाट्सएप के प्लेटफॉर्म पर बग पाया गया है, जिसकी वजह से करोड़ों यूजर्स के फोन नंबर गूगल पर प्रकाशित हो गए हैं। इस बात की जानकारी साइबर कंपनी के सिक्योरिटी विशेषज्ञ अतुल जयराम के आधिकारिक ब्लॉग पोस्ट से मिली है। इस पोस्ट में दी गई जानकारी के मुताबिक, व्हाट्सएप में आए बग के कारण 29,000 से 30,000 यूजर्स के मोबाइल नंबर गूगल पर टेक्स्ट फॉर्मेट में दिखाई दे रहे हैं।

साइबर विशेषज्ञ अतुल जयराम का कहना है कि व्हाट्सएप में आए इस बग ने अमेरिका, भारत समेत दुनिया के कई देशों के यूजर्स को प्रभावित किया है। साथ ही यूजर्स का डाटा ओपन वेब पर उपलब्ध हो गया है, जिसे आसानी से एक्सेस किया जा सकता है। उनका आगे कहना है कि क्लिक-टू-चैट फीचर के कारण भी मोबाइल नंबर पर हैकिंग का खतरा बना हुआ है। वहीं, फेसबुक ने इस बग को लेकर कहा है कि यूजर्स का डाटा पूरी तरह से सुरक्षित है। कंपनी ने आगे कहा है कि गूगल पर उन यूजर्स के नंबर दिख रहे हैं, जिन्होंने अपनी मर्जी से नंबर पब्लिश करने का फैसला लिया है।

क्लिक-टू-चैट फीचर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि व्हाट्सएप के क्लिक-टू-चैट फीचर के जरिए यूजर्स वेबसाइट पर विजिटर्स के साथ आसानी से चैट कर सकते हैं। इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को क्यूआर कोड स्कैन करना पड़ता है। इसके बाद यूजर्स यूआरएल पर क्लिक करके चैट कर पाते हैं। साइबर विशेषज्ञ अतुल जयराम ने कहा है कि क्लिक-टू-चैट फीचर की वजह से गूगल पर मोबाइल यूजर्स के नंबर टेक्स्ट फॉर्मेट में दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावा कई यूजर्स के फोन नंबर यूआरएल के साथ दिखाई दिए हैं। उन्होंने आगे कहा है कि अगर यूजर्स के फोन नंबर गूगल पर दिखाई देते रहेंगे, तो इससे डाटा चोरी होने का खतरा बहुत बढ़ जाएगा।