Twitter ने किये 1.50 लाख से ज्यादा अकाउंट बंद

Facebook


माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 1.70 लाख अकाउंट को बंद कर दिया है। यह सभी अकाउंट चीनी सरकार की नीतियों का समर्थन करने की आड़ में अभियान चला रहे थे। साथ ही इन अकाउंट की तरफ से गलत जानकारी भी फैलाई जा रही थी। वहीं, कंपनी का कहना है कि इन सभी अकाउंट के यूजर्स ने हमारी पॉलिसी का उल्लंघन किया है। सीएनएन की रिपोर्ट मुताबिक, विशेषज्ञों का कहना हैं कि बंद किए गए सभी अकाउंट के ट्वीट में हॉन्ग-कॉन्ग के विरोध प्रदर्शन और कोविड-19 का जिक्र था। इसके अलावा इन ट्वीट में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन का सर्मथन भी किया गया था। 

इस वजह से इन सभी अकाउंट को बंद कर दिया गया है। गौरतलब है कि ये सभी ट्वीट चीनी भाषा में किए गए थे।ट्विटर ने कहा है कि हमने 23,750 अकाउंट की पहचान की है, जो चीन का समर्थन कर रहे थे। इसके साथ 1.50 लाख अकाउंट ऐसे भी थे, जो इन अकाउंट से किए गए ट्वीट को प्रमोट करने काम करते थे। इसके अलावा ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस चीनी अभियान का मकसद विदेश में रहने वाले चीनी नागरिकों को टारगेट करना था। स्टैनफोर्ड इंटरनेट ऑब्जर्वेटरी की रिसर्च मैनेजर रेनी डिएस्टा का कहना है कि इन 23,750 अकाउंट से करीब 348,608 बार ट्वीट किए गए थे। इन ट्वीट में हॉन्ग-कॉन्ग विरोध प्रदर्शन और कोरोना वायरस का जिक्र था। उन्होंने आगे कहा है कि इन अकाउंट से महामारी को लेकर अमेरिका की आलोचना भी की गई थी। 

ट्विटर में जल्द आएंगी इमोजी

ट्विटर फेसबुक की तरह रिएक्शन इमोजी की टेस्टिंग कर रहा है। इसकी जानकारी टिप्स्टर जेन मनचुन वोंग जो ने दी है, हालांकि एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्विटर ने इस तरह की एक्सपेरिमेंट 2015 में भी की थी। जेन मनचुन वोंग ने एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है जिसमें इस फेसबुक की तरह हाहा, नमस्ते और वाओ जैसे रिएक्शन इमोजी को देखा जा सकता है। कहा जा रहा है कि पहले इस फीचर को Fleet के साथ जारी किया जाएगा। फेसबुक की बात करें तो यहां किसी पोस्ट को लाइक करने के दौरान ही रिएक्शन इमोजी का ऑप्शन मिलता है, हालांकि ट्विटर को लेकर अभी तक कुछ साफ नहीं है।

माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 1.70 लाख अकाउंट को बंद कर दिया है। यह सभी अकाउंट चीनी सरकार की नीतियों का समर्थन करने की आड़ में अभियान चला रहे थे। साथ ही इन अकाउंट की तरफ से गलत जानकारी भी फैलाई जा रही थी। वहीं, कंपनी का कहना है कि इन सभी अकाउंट के यूजर्स ने हमारी पॉलिसी का उल्लंघन किया है। सीएनएन की रिपोर्ट मुताबिक, विशेषज्ञों का कहना हैं कि बंद किए गए सभी अकाउंट के ट्वीट में हॉन्ग-कॉन्ग के विरोध प्रदर्शन और कोविड-19 का जिक्र था। इसके अलावा इन ट्वीट में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चीन का सर्मथन भी किया गया था। 

इस वजह से इन सभी अकाउंट को बंद कर दिया गया है। गौरतलब है कि ये सभी ट्वीट चीनी भाषा में किए गए थे।ट्विटर ने कहा है कि हमने 23,750 अकाउंट की पहचान की है, जो चीन का समर्थन कर रहे थे। इसके साथ 1.50 लाख अकाउंट ऐसे भी थे, जो इन अकाउंट से किए गए ट्वीट को प्रमोट करने काम करते थे। इसके अलावा ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस चीनी अभियान का मकसद विदेश में रहने वाले चीनी नागरिकों को टारगेट करना था। स्टैनफोर्ड इंटरनेट ऑब्जर्वेटरी की रिसर्च मैनेजर रेनी डिएस्टा का कहना है कि इन 23,750 अकाउंट से करीब 348,608 बार ट्वीट किए गए थे। इन ट्वीट में हॉन्ग-कॉन्ग विरोध प्रदर्शन और कोरोना वायरस का जिक्र था। उन्होंने आगे कहा है कि इन अकाउंट से महामारी को लेकर अमेरिका की आलोचना भी की गई थी। 

ट्विटर में जल्द आएंगी इमोजी

ट्विटर फेसबुक की तरह रिएक्शन इमोजी की टेस्टिंग कर रहा है। इसकी जानकारी टिप्स्टर जेन मनचुन वोंग जो ने दी है, हालांकि एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्विटर ने इस तरह की एक्सपेरिमेंट 2015 में भी की थी। जेन मनचुन वोंग ने एक स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है जिसमें इस फेसबुक की तरह हाहा, नमस्ते और वाओ जैसे रिएक्शन इमोजी को देखा जा सकता है। कहा जा रहा है कि पहले इस फीचर को Fleet के साथ जारी किया जाएगा। फेसबुक की बात करें तो यहां किसी पोस्ट को लाइक करने के दौरान ही रिएक्शन इमोजी का ऑप्शन मिलता है, हालांकि ट्विटर को लेकर अभी तक कुछ साफ नहीं है।