भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड हुआ Zoom App

Facebook

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप जूम (Zoom) लॉकडाउन में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला एप बन गया है। वहीं दुनिया के तमाम देशों के स्कूल की क्लासेज जूम एप के जरिए ही चल रही हैं परन्तु  भारत जूम का सबसे बड़ा बाजार है। इसके साथ ही जूम वीडियो कॉलिंग एप को भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड किया गया है। जूम सबसे ज्यादा डाउनलोड होने वाला नॉन गेमिंग एप बन गया है। वहीं केवल अप्रैल में इसे 13.1 करोड़ लोगों ने डाउनलोड किया है।

18 फीसदी डाउनलोडिंग भारत में

सेंसर टावर की रिपोर्ट के अनुसार  जूम एप को भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड किया गया है। वहीं भारत में जूम एप की डाउनलोडिंग का प्रतिशत 18 है, जबकि अमेरिका में यह 14 फीसदी है। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि भारत सरकार की चेतावनी के बाद भी जूम की डाउनलोडिंग में इजाफा हुआ है। इसके साथ ही सरकार ने प्राइवेसी के लिहाज से इसे असुरक्षित बताया था। अमेरिकी कंपनी जूम एप का इस्तेमाल लॉकडाउन में कंपनी की उम्मीद से ज्यादा हो रहा है। इस बात को खुद कंपनी के सीईओ ने स्वीकार किया है, फिलहाल  जूम प्राइवेसी और सिक्योरिटी को लेकर भी सवाल उठे हैं। प्राइवेसी के सवाल उठने के बाद जूम ने हाल ही में एंड टू एंड एन्क्रिप्शन स्टार्टअप Keybase के साथ साझेदारी की है।

जूम के पांच लाख अकाउंट हुए हैक

पिछले महीने ब्लीपिंग कंप्यूटर ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि जूम के पांच लाख अकाउंट को हैक कर लिया गया है और डार्क वेब पर मामूली कीमत में लोगों का निजी डाटा बेचा जा रहा है। जूम एप यूजर्स का डाटा हैकर्स फोरम पर बिक रहा है। इसके बारे में सबसे पहले एक अप्रैल को साइबर सिक्योरिटी फर्म Cyble ने जानकारी दी थी। रिपोर्ट के मुताबिक डार्क वेब पर जूम एप यूजर्स का डाटा मामूली कीमत $0.0020 यानी करीब 0.15 रुपये प्रति अकाउंट बिका था। वहीं रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यह हैकिंग बकायदा पासवर्ड और आईडी के जरिए हुई है यानी कि हैकर्स को इसके बारे में पहले से जानकारी थी।

फेसबुक और गूगल ने भी लिए बड़े फैसले

लॉकडाउन मे वीडियो कॉलिंग का मांग को देखते हुए फेसबुक ने अपने मैसेंजर एप और डेस्कटॉप वर्जन में रूम फीचर जारी किया है। फेसबुक ने मैसेंजर में रूम फीचर जारी किया है जिसके बाद फेसबुक मैसेंजर से एक साथ अधिकतम 50 लोग वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं। खास बात यह है कि मैसेंजर रूम वीडियो कॉलिंग में कोई भी सिर्फ एक इनवाइट लिंक के जरिए शामिल हो सकता है, भले ही वह फेसबुक ना इस्तेमाल करता हो। मैसेंजर रूम में भी जूम की तरह फीचर्स दिए गए हैं। फेसबुक मैसेंजर रूम में आग्युमेंट रियलिटी (AR) इफेक्ट्स भी मिलेंगे।

गूगल मीट 

गूगल ने भी मौके को देखते हुए अपने वीडियो कॉलिंग एप मीट को अपडेट किया है। गूगल मीट एप से अब कोई भी फ्री में वीडियो कॉलिंग या कॉन्फ्रेंस कर सकता है। बता दें कि इससे पहले गूगल मीट सिर्फ जीसूट (G Suite) यूजर्स के लिए ही था। जी सूट के अध्यक्ष जेवियर सोलारो ने कहा कि हमने गूगल मीट को फ्री करने का एलान किया है और कोरोना महामारी के दौरान दुनियाभर के यूजर्स को अपनों के करीब रखने के लिए हमनें यह फैसला लिया है। गूगल मीट में भी एक बार में 250 लोग वीडियो मीटिंग कर सकते हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप जूम (Zoom) लॉकडाउन में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला एप बन गया है। वहीं दुनिया के तमाम देशों के स्कूल की क्लासेज जूम एप के जरिए ही चल रही हैं परन्तु  भारत जूम का सबसे बड़ा बाजार है। इसके साथ ही जूम वीडियो कॉलिंग एप को भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड किया गया है। जूम सबसे ज्यादा डाउनलोड होने वाला नॉन गेमिंग एप बन गया है। वहीं केवल अप्रैल में इसे 13.1 करोड़ लोगों ने डाउनलोड किया है।

18 फीसदी डाउनलोडिंग भारत में

सेंसर टावर की रिपोर्ट के अनुसार  जूम एप को भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड किया गया है। वहीं भारत में जूम एप की डाउनलोडिंग का प्रतिशत 18 है, जबकि अमेरिका में यह 14 फीसदी है। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि भारत सरकार की चेतावनी के बाद भी जूम की डाउनलोडिंग में इजाफा हुआ है। इसके साथ ही सरकार ने प्राइवेसी के लिहाज से इसे असुरक्षित बताया था। अमेरिकी कंपनी जूम एप का इस्तेमाल लॉकडाउन में कंपनी की उम्मीद से ज्यादा हो रहा है। इस बात को खुद कंपनी के सीईओ ने स्वीकार किया है, फिलहाल  जूम प्राइवेसी और सिक्योरिटी को लेकर भी सवाल उठे हैं। प्राइवेसी के सवाल उठने के बाद जूम ने हाल ही में एंड टू एंड एन्क्रिप्शन स्टार्टअप Keybase के साथ साझेदारी की है।

जूम के पांच लाख अकाउंट हुए हैक

पिछले महीने ब्लीपिंग कंप्यूटर ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि जूम के पांच लाख अकाउंट को हैक कर लिया गया है और डार्क वेब पर मामूली कीमत में लोगों का निजी डाटा बेचा जा रहा है। जूम एप यूजर्स का डाटा हैकर्स फोरम पर बिक रहा है। इसके बारे में सबसे पहले एक अप्रैल को साइबर सिक्योरिटी फर्म Cyble ने जानकारी दी थी। रिपोर्ट के मुताबिक डार्क वेब पर जूम एप यूजर्स का डाटा मामूली कीमत $0.0020 यानी करीब 0.15 रुपये प्रति अकाउंट बिका था। वहीं रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यह हैकिंग बकायदा पासवर्ड और आईडी के जरिए हुई है यानी कि हैकर्स को इसके बारे में पहले से जानकारी थी।

फेसबुक और गूगल ने भी लिए बड़े फैसले

लॉकडाउन मे वीडियो कॉलिंग का मांग को देखते हुए फेसबुक ने अपने मैसेंजर एप और डेस्कटॉप वर्जन में रूम फीचर जारी किया है। फेसबुक ने मैसेंजर में रूम फीचर जारी किया है जिसके बाद फेसबुक मैसेंजर से एक साथ अधिकतम 50 लोग वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं। खास बात यह है कि मैसेंजर रूम वीडियो कॉलिंग में कोई भी सिर्फ एक इनवाइट लिंक के जरिए शामिल हो सकता है, भले ही वह फेसबुक ना इस्तेमाल करता हो। मैसेंजर रूम में भी जूम की तरह फीचर्स दिए गए हैं। फेसबुक मैसेंजर रूम में आग्युमेंट रियलिटी (AR) इफेक्ट्स भी मिलेंगे।

गूगल मीट 

गूगल ने भी मौके को देखते हुए अपने वीडियो कॉलिंग एप मीट को अपडेट किया है। गूगल मीट एप से अब कोई भी फ्री में वीडियो कॉलिंग या कॉन्फ्रेंस कर सकता है। बता दें कि इससे पहले गूगल मीट सिर्फ जीसूट (G Suite) यूजर्स के लिए ही था। जी सूट के अध्यक्ष जेवियर सोलारो ने कहा कि हमने गूगल मीट को फ्री करने का एलान किया है और कोरोना महामारी के दौरान दुनियाभर के यूजर्स को अपनों के करीब रखने के लिए हमनें यह फैसला लिया है। गूगल मीट में भी एक बार में 250 लोग वीडियो मीटिंग कर सकते हैं।