भारत के सबसे बुजुर्ग क्रिकेटर का निधन सचिन और स्टीव वॉ के साथ मनाया था 100वां जन्मदिन

Facebook


नई दिल्ली: भारत के सबसे बुजुर्ग प्रथम श्रेणी क्रिकेटर वसंत रायजी का शनिवार को देहांत हो गया है। उन्होंने मुंबई में आज तड़के 2:30 बजे अंतिम सांस ली। उनके दामाद सुदर्शन नानावटी ने मौत की पुष्टि की है। इसी साल जनवरी में 100वां जन्मदिन बनाने वाले वसंद रायजी के बर्थडे पर टीम इंडिया के महान बल्लेबाज़ सचिन तेंडुलकर और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ केक लेकर पहुंचे थे। उनके निधन के बाद अब विश्व के सबसे उम्रदराज क्रिकेट प्लेयर न्यूजीलैंड के एलन बरगेस (जन्म-1 मई, 1920) हैं।

दाएं हाथ के बैट्समैन रायजी ने 1940 के दशक में 9 प्रथम श्रेणी मैच खेले थे जिसमें 277 रन बनाए थे। उनका हाई स्कोर 68 रन था। उन्होंने 1939 में क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया के लिए पदार्पण किया था। इसके दो वर्ष पश्चात उन्होंने मुंबई की तरफ से पहला मैच खेला। तब विजय मर्चेंट की कप्तानी में टीम ने वेस्टर्न इंडिया के खिलाफ मुकाबला खेला था। रायजी क्रिकेट इतिहासकार होने के साथ ही चार्टर्ड अकाउंटेंट भी थे। वे जब 13 वर्ष के थे तब भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच बॉम्बे जिमखाना में खेला था।

इस वर्ष जनवरी में राय जी के 100वें बर्थडे पर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज़ स्टीव वॉ के साथ उनसे मिलने के लिए गए थे। तेंदुलकर ने ट्विटर पर उस समय लिखा था, ‘आपको 100वें जन्मदिन की शुभकामनाएं श्री वसंत रायजी। स्टीव और मैंने आपके साथ बहुत अच्छा वक़्त बिताया और अतीत की कुछ अद्भुत क्रिकेट कहानियां सुनी। हमारे प्यारे खेल के बारे में यादों का खजाना आगे तक पहुंचाने के लिए आपका आभार।’

नई दिल्ली: भारत के सबसे बुजुर्ग प्रथम श्रेणी क्रिकेटर वसंत रायजी का शनिवार को देहांत हो गया है। उन्होंने मुंबई में आज तड़के 2:30 बजे अंतिम सांस ली। उनके दामाद सुदर्शन नानावटी ने मौत की पुष्टि की है। इसी साल जनवरी में 100वां जन्मदिन बनाने वाले वसंद रायजी के बर्थडे पर टीम इंडिया के महान बल्लेबाज़ सचिन तेंडुलकर और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ केक लेकर पहुंचे थे। उनके निधन के बाद अब विश्व के सबसे उम्रदराज क्रिकेट प्लेयर न्यूजीलैंड के एलन बरगेस (जन्म-1 मई, 1920) हैं।

दाएं हाथ के बैट्समैन रायजी ने 1940 के दशक में 9 प्रथम श्रेणी मैच खेले थे जिसमें 277 रन बनाए थे। उनका हाई स्कोर 68 रन था। उन्होंने 1939 में क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया के लिए पदार्पण किया था। इसके दो वर्ष पश्चात उन्होंने मुंबई की तरफ से पहला मैच खेला। तब विजय मर्चेंट की कप्तानी में टीम ने वेस्टर्न इंडिया के खिलाफ मुकाबला खेला था। रायजी क्रिकेट इतिहासकार होने के साथ ही चार्टर्ड अकाउंटेंट भी थे। वे जब 13 वर्ष के थे तब भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच बॉम्बे जिमखाना में खेला था।

इस वर्ष जनवरी में राय जी के 100वें बर्थडे पर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज़ स्टीव वॉ के साथ उनसे मिलने के लिए गए थे। तेंदुलकर ने ट्विटर पर उस समय लिखा था, ‘आपको 100वें जन्मदिन की शुभकामनाएं श्री वसंत रायजी। स्टीव और मैंने आपके साथ बहुत अच्छा वक़्त बिताया और अतीत की कुछ अद्भुत क्रिकेट कहानियां सुनी। हमारे प्यारे खेल के बारे में यादों का खजाना आगे तक पहुंचाने के लिए आपका आभार।’