सुबह उठने के बाद से सोने तक इन 5 मंत्रों के जाप से बनी रहेगी सुख-शांति

ऐसा कहा जाता है कि सुबह ब्रह्ममुहूर्त में उठना बहुत चाहिए और रात को जल्दी सो जाना चाहिए। साथ ही कहा तो यह भी जाता है कि अगर सुबह की शुरुआत अच्छी हो तो पूरा दिन अच्छा रहता है। सकारात्मकता बनी रहती है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, शास्त्रों में सुबह जागने से रात को सोने तक कुछ मंत्र बताए गए हैं। अगर सही समय पर इनका जाप किया जाए को व्यक्ति के जीवन से विचारों की नकारात्मकता खत्म हो जाती है। वहीं, सकारात्मक विचारों का निवास होता है और सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। तो चलिए जानते हैं इन मंत्रों के बारे में।

सुबह उठने के बाद से सोने तक इन 5 मंत्रों का करें जाप:

कर दर्शन मंत्र:

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती।

करमूले तु गोविन्दः प्रभाते करदर्शनम॥

हमारी हथेलियों में ही लक्ष्मी, सरस्वती और विष्णु का वास माना गया है। इसलिए सुबह जागते ही अपनी हथेलियों को देखें और इस मंत्र का जाप करें। यह बेहद फलदायक होता है।

स्नान मंत्र:

गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वति।

नर्मदे सिन्धु कावेरी जलऽस्मिन्सन्निधिं कुरु

स्नान करते समय सभी पवित्र तीर्थों और नदियों का ध्यान करें और इस मंत्र का जाप करें। इस मंत्र से गंगा, यमुना, गोदावरी, सरस्वती, नर्मदा, सिंधु, कावेरी जैसी सभी पवित्र नदियों का स्मरण किया जाता है।

सूर्य मंत्र:

ऊं सूर्याय नम:।

तांबे के लोटे से सूर्य को जल चढ़ाते समय इस मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र को 11, 21 या 108 बार करना चाहिए।

भोजन मंत्र:

ॐ सह नाववतु। सह नौ भुनक्तु। सह वीर्यं करवावहै। तेजस्विनावधीतमस्तु मा विद्विषावहै।। ऊं शान्ति: शान्ति: शान्ति:।।

भोजन करने से पहले इस मंत्र का जाप करें। मंत्र का जाप करते समय खाने के लिए भगवान का आभार मानना चाहिए।

शयन मंत्र:

जले रक्षतु वाराहः स्थले रक्षतु वामनः।

अटव्यां नारसिंहश्च सर्वतः पातु केशवः।।

रोज रात को सोने से पहले इस मंत्र का जाप करना चाहिए। आप चाहें तो हनुमान चालीसा या अपने ईष्टदेव का जाप भी कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here