चीन के खिलाफ सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक जबरदस्त गुस्सा देखें फोटो वीडियो

India China Tension LIVE: चीन के खिलाफ सोशल मीडिया से लेकर सड़क तक जबरदस्त गुस्सा देखें फोटो वीडियो

भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव बढ़ गया है। चीन ने अपनी फितरत के अनुसार धोखा देते हुए पीछे से वार किया और 20 भारतीय सैनिकों की शहादत हो गई। पलटवार में चीन के भी 43 सैनिक मारे गए हैं। इसके बाद सोशल मीडिया पर चीन के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा है। यूजर्स कह रहे हैं कि चीन सीमा पर उपद्रव कर रहा है और भारत का युवा TIKTOK चला रहा है। इसके साथ ही चीनी उत्पादों के बहिष्कार का मुद्दा एक बार फिर उठ गया है। बड़ी संख्या में यूजर्स राजनीतिक टीका-टिप्पणी भी कर रहे हैं।

अखिलेश शर्मा ने लिखा, चीन को लेकर बीजेपी और कांग्रेस दोनों के सुर बदलते रहे हैं। जब सत्ता में होते तब कुछ बोलते हैं और विपक्ष में रहने पर कुछ और। लेकिन चीन को लेकर भारत के समाजवादियों का मत हमेशा दृढ़ रहा है। वो चाहे राममनोहर लोहिया हों, जॉर्ज फ़र्नांडिस या फिर मुलायम सिंह यादव। वहीं प्रशांत पटेल लिखते हैं कि Galwan Valley से 70 km पर कोरमकोर हाइवे गुजरता है जो चीन को पाकिस्तान से जोड़ता है व इस पर CPEC चल रहा है पर यह क्षेत्र भारत का है। समझौते के अनुसार चीन और भारत यहां कोई निर्माण नहीं करेंगे,लेकिन चीन नें किया और अब भारत भी कर रहा है और अब वहां दावे के साथ पीछे हटने का सवाल नहीं।

आरव राज का मानना है कि अब समझ में आ गया होगा कि चीन ने कुछ दिनों पहले अपने नागरिकों को भारत छोड़ने को क्यों कहा था। पूरी तैयारी और योजना बना कर आए हैं चीनी। आदित्यकुमार गुप्ता लिखते हैं, बेशर्म कांग्रेसी दो शब्द चीन के खिलाफ नही बोल पा रहें, लेकिन अपने देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ गला फाड फाडकर भौंक रहे है…इससे ये स्पष्ट दिख रहा है कि ये देश के साथ ना खड़ा हो के चीन के साथ खड़ा है।

शोभना मालवीय ने लिखा है, समय आ गया है चीन को दिखला दें अब आईना। भारतीया सेना सस्त्र उठाओ,

टीच लेसन तो चाइना। चीन में बनी वस्तुओं का बहिष्कार ही हमारे शहीद सैनिकों के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी । नमन है उन सपूतों को जिन्होंने मातृभूमि के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया।

अशोक श्रीवास्तव लिखते हैं, चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के संपादक सोशल मीडिया पर लोगों से अपील कर रहे हैं कि #ChinaIndiaFaceoff में हमारी “कैजुअलिटी” हुई है, लेकिन सरकार और सेना पर भरोसा रखें। चीन की सरकार के लिए खुद को डिफेंड करना मुश्किल हो रहा है, पर भारत में बैठे चीनी चमचे यह काम बखूबी कर रहे हैं।

गुजरात के अहमदाबाद में लोगों ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पुतला जलाया

वाराणसी में गैर सरकार संगठन ने चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here