एफपीएआई का बयान कहा- समय से पहले अनुबंध रद्द नहीं कर सकते

Facebook

फुटबाल प्लेयर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफपीएआई) ने सोमवार को कहा है कि ‘फोर्स मेजेयुर’ (समय से पहले अनुबंध खत्म करना) और उसी समय नए सीजन के लिए नए खिलाड़ियों से करार करना, दोनों बातें एक साथ नहीं हो सकतीं. एफपीएआई का यह बयान ईस्ट बंगाल एफसी के कुछ खिलाड़ियों के करार को 30 अप्रैल से खत्म करने के बाद आया है. एफपीएआई को चिंतित खिलाड़ियों की तरफ से फोन आ रहे हैं कि उनका करार समय से पहले ही समाप्त कर दिया गया है. कई क्लबों के पास खिलाड़ियों के अनुबंध में फोर्स मेजेयुर क्लॉज है जो उन्हें अनुबंध खत्म करने का अधिकारी देता है.

एफपीएआई के महानिदेशक सायरस कन्फेक्शनर ने सोमवार को आईएएनएस से कहा, “अगर आप फोर्स मेजेयुर क्लॉज लागू कर रहे हैं और वहीं दूसरी तरफ नए खिलाड़ियों के साथ करार कर रहे हैं, यह मंजूर नहीं किया जा सकता. फोस मेजेयुर को लेकर हमारे पास फीफा का नोटिस है, यह नियम क्लबों पर 100 फीसदी लागू नहीं होता तब तक जब तक क्लब कुछ निश्चित गाइडलाइंस न बनाए.” उन्होंने कहा, “अगर मान लीजिए की सीजन खत्म होने में पांच महीने बचे हैं, जैसे दिसंबर है, तो समझ में आता है लेकिन दो महीने पहले अनुबंध खत्म कर देना यह सही नहीं है.”

2018 में ईस्ट बंगाल में निवेश करने वाले कंपनी क्वेस ने कहा कि वह 31 मई के बाद क्लब से अलग हो जाएगी. केन्फेक्शनर ने कहा, “हमने अपने खिलाड़ियों से बात की है और हमारी सलाह कि वो हमारे पास आएं. हमें अनुबंध खत्म करने की सभी जानकारी भेजें और हम इसे एआईएफएफ में ले जाएंगे. अगर हम क्लब के साथ एक समाधान पर नहीं पहुंच सके तो हमारे पास फीफा है. हम हमेशा से खिलाड़ियों के साथ हैं और हमेशा रहेंगे.”

फुटबाल प्लेयर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफपीएआई) ने सोमवार को कहा है कि ‘फोर्स मेजेयुर’ (समय से पहले अनुबंध खत्म करना) और उसी समय नए सीजन के लिए नए खिलाड़ियों से करार करना, दोनों बातें एक साथ नहीं हो सकतीं. एफपीएआई का यह बयान ईस्ट बंगाल एफसी के कुछ खिलाड़ियों के करार को 30 अप्रैल से खत्म करने के बाद आया है. एफपीएआई को चिंतित खिलाड़ियों की तरफ से फोन आ रहे हैं कि उनका करार समय से पहले ही समाप्त कर दिया गया है. कई क्लबों के पास खिलाड़ियों के अनुबंध में फोर्स मेजेयुर क्लॉज है जो उन्हें अनुबंध खत्म करने का अधिकारी देता है.

एफपीएआई के महानिदेशक सायरस कन्फेक्शनर ने सोमवार को आईएएनएस से कहा, “अगर आप फोर्स मेजेयुर क्लॉज लागू कर रहे हैं और वहीं दूसरी तरफ नए खिलाड़ियों के साथ करार कर रहे हैं, यह मंजूर नहीं किया जा सकता. फोस मेजेयुर को लेकर हमारे पास फीफा का नोटिस है, यह नियम क्लबों पर 100 फीसदी लागू नहीं होता तब तक जब तक क्लब कुछ निश्चित गाइडलाइंस न बनाए.” उन्होंने कहा, “अगर मान लीजिए की सीजन खत्म होने में पांच महीने बचे हैं, जैसे दिसंबर है, तो समझ में आता है लेकिन दो महीने पहले अनुबंध खत्म कर देना यह सही नहीं है.”

2018 में ईस्ट बंगाल में निवेश करने वाले कंपनी क्वेस ने कहा कि वह 31 मई के बाद क्लब से अलग हो जाएगी. केन्फेक्शनर ने कहा, “हमने अपने खिलाड़ियों से बात की है और हमारी सलाह कि वो हमारे पास आएं. हमें अनुबंध खत्म करने की सभी जानकारी भेजें और हम इसे एआईएफएफ में ले जाएंगे. अगर हम क्लब के साथ एक समाधान पर नहीं पहुंच सके तो हमारे पास फीफा है. हम हमेशा से खिलाड़ियों के साथ हैं और हमेशा रहेंगे.”