फेसबुक ने की सारेगामा से साझेदारी, मिलेंगे यह फायदे

Facebook


फेसबुक लगातार भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रहा है। कुछ दिन पहले ही फेसबुक ने जियो के साथ साझेदारी की और अब कंपनी ने सारेगामा के साथ साझेदारी का एलान किया है। इसके साथ ही फेसबुक और सारेगामा के बीच एक वैश्विक समझौता हुआ है| आपकी जानकारी के लिए बता दें की जिसके तहत फेसबुक और इंस्टाग्राम पर उसके संगीत का इस्तेमाल वीडियो और अन्य अनुभवों के लिए किया जा सकेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस साझेदारी के तहत उपयोगकर्ताओं को फेसबुक और इंस्टाग्राम पर वीडियो, स्टोरीज, स्टीकर और अन्य क्रियेटिव कंटेंट के लिए उसके संगीत का इस्तेमाल करने की अनुमति होगी। इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दें की  बयान में कहा गया कि यूजर अपने फेसबुक प्रोफाइल में भी गाने जोड़ सकते हैं।

इसके अलावा सारेगामा इंडिया के प्रबंध निदेशक विक्रम मेहरा ने कहा, ‘‘अब फेसबुक के लाखों उपयोगकर्ता जो स्टोरीज और वीडियो बनाते हैं, उसमें वे हमारे विशाल संग्रह से संगीत जोड़ सकेंगे।’’आपकी जानकारी के लिए बता दें की  सारेगामा के पास 25 से अधिक भाषाओं में फिल्मी गाने, भक्ति संगीत, गजल और इंडिपॉप सहित कई विभिन्न शैलियों के एक लाख से अधिक गाने हैं।

फेसबुक लगातार भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी कर रहा है। कुछ दिन पहले ही फेसबुक ने जियो के साथ साझेदारी की और अब कंपनी ने सारेगामा के साथ साझेदारी का एलान किया है। इसके साथ ही फेसबुक और सारेगामा के बीच एक वैश्विक समझौता हुआ है| आपकी जानकारी के लिए बता दें की जिसके तहत फेसबुक और इंस्टाग्राम पर उसके संगीत का इस्तेमाल वीडियो और अन्य अनुभवों के लिए किया जा सकेगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस साझेदारी के तहत उपयोगकर्ताओं को फेसबुक और इंस्टाग्राम पर वीडियो, स्टोरीज, स्टीकर और अन्य क्रियेटिव कंटेंट के लिए उसके संगीत का इस्तेमाल करने की अनुमति होगी। इसके अलावा आपकी जानकारी के लिए बता दें की  बयान में कहा गया कि यूजर अपने फेसबुक प्रोफाइल में भी गाने जोड़ सकते हैं।

इसके अलावा सारेगामा इंडिया के प्रबंध निदेशक विक्रम मेहरा ने कहा, ‘‘अब फेसबुक के लाखों उपयोगकर्ता जो स्टोरीज और वीडियो बनाते हैं, उसमें वे हमारे विशाल संग्रह से संगीत जोड़ सकेंगे।’’आपकी जानकारी के लिए बता दें की  सारेगामा के पास 25 से अधिक भाषाओं में फिल्मी गाने, भक्ति संगीत, गजल और इंडिपॉप सहित कई विभिन्न शैलियों के एक लाख से अधिक गाने हैं।