लॉकडाउन के दौरान, प्यार बढ़ाने के 5 नुस्ख़े

कोरोना को कंट्रोल करने के लिए देश में एक के बाद एक लगातार तीन बार लॉकडाउन को बढ़ाया जा चुका है. लॉकडाउन यानी घर पर रहते हुए ऑफ़िस के काम करना. लॉकडाउन यानी परिवार के साथ ज़्यादा समय बिताने का मौक़ा मिलाना. लॉकडाउन यानी रोज़ के ट्रैवल टाइम को बचा लेना. पहले आप परिवार के लोगों और पार्टनर से केवल वीकएंड्स पर ही अच्छे से मिल पाते थे. अब तो सप्ताह के सातों दिन और चौबीसों घंटे उनकी मौजूदगी में बीत रहे हैं. ऐसे में जो चीज़ रोमांचक लग सकती थी हो सकता है आपको इरिटेट भी कर दे. ख़ासकर इस फ़ैक्ट को मद्देनज़र रखते हुए कि जैसे ही चीन में लॉकडाउन ख़त्म किया गया, शादीशुदा जोड़ों में तलाक़ लेने की दर अचानक से बढ़ गई.
आपका लॉकडाउन अच्छे से बीते और आप परिवार, ख़ासकर पार्टनर के और क़रीब आएं इसके लिए इन पांच बातों पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है. तो ये रहे सफल लॉकडाउन के पांच नुस्ख़े.

How to strengthen your relationship during lockdown

पहला नुस्ख़ा: आपके पास टाइम बहुत है, पर पार्टनर के साथ बात करने के लिए समय ज़रूर निकालें 
आप दोनों लंबे समय से घर पर हैं तो ज़ाहिर है, एक समय बाद आप एक ही चेहरा देख-देखकर ऊबने लगेंगे. ऐसे में क्या करना चाहिए? आपको नियम से एक-दूसरे के साथ बात करने के लिए बैठना ही चाहिए. वर्ना देखने को यह मिल रहा है कि एक ही कमरे में बैठे-बैठे हम अपने-अपने फ़ोन में घुसे रहते हैं. उसके बाद एक-दूसरे को ब्लेम करते हैं. अच्छा तो यही होगा कि फ़ोन को अपनी ज़िंदगी से सुरक्षित दूरी पर रहने दें. चैट पर दूसरों से बात करने के बजाय एक-दूसरे से बात करके आपको वाक़ई अच्छा लगेगा. ट्राय करके देखिएगा. दूसरे शहर में रहनेवाले परिवार के दूसरे सदस्यों से आप जब वीडियो कॉल पर बात कर रहे हों तो साथ ही रहें तो बेहतर होगा. इससे आप साथ-साथ में बात कर लेंगे, जिससे एक-दूसरे के साथ बिताने के लिए ज़्यादा समय मिलेगा.

How to strengthen your relationship during lockdown

दूसरा नुस्ख़ा: उन सभी चीज़ों के लिए ज़िंदगी का शुक्रगुज़ार होइए, जो आपके पास हैं 
सोचिए आप उन बेहद भाग्यशाली लोगों में से हैं, जो डर और महामारी के माहौल में अपने घरों में सुरक्षित हैं. आपकी कंपनी आपको सैलरी दे रही है. आपका पार्टनर, आपके बच्चे, पैरेंट्स और दूसरे क़रीबी रिश्तेदार सुरक्षित हैं. ज़रा उन लोगों की सोचिए, जो इस मुश्क़िल समय में अपने घर पहुंचने के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं. अगर लॉकडाउन के दौरान एक बार भी ऐसा लगे कि हम घरों में क़ैद हो गए हैं तो इस तथ्य पर ग़ौर करना आपको ख़ुद के भाग्यशाली होने का पता चलेगा. जब एक बार आप ज़िंदगी के प्रति शुक्रगुज़ार होना सीखेंगे, तब आप छोटी- मोटी बातों को लेकर कम्प्लेन करना बंद कर देंगे. आप ख़ुश भले न हों, संतुष्ट ज़रूर महसूस करेंगे. इस संतुष्टि का सकारात्मक असर आपके रिश्ते पर साफ़ दिखेगा.

How to strengthen your relationship during lockdown

तीसरा नुस्ख़ा: घर पर हैं तो भी ख़ुद के लिए समय निकालना बहुत ज़रूरी है 
जैसे पूरी तरह से फ्री बैठे रहना फ्रस्टेटिंग होता है, उसी तरह हर वक़्त काम में डूबा रहना भी खीझ पैदा कर देता है. पहले आप खीझेंगे, फिर आपको खीझता देखकर खीझ का संक्रमण परिवार के दूसरे लोगों को भी अपने बस में कर लेगा. इससे बचने का सबसे सही तरीक़ा है टाइम मैनेजमेंट. आपको ऑफ़िस और घर के सदस्यों के लिए समय देने के बाद कुछ पल अपने लिए भी निकालना होगा. ताकि उन पलों में आप अपने शौक़ को पूरा कर सकें. आपका शौक़ कुछ भी हो सकता है, पढ़ना, लिखना, पेंटिंग, सिंगिंग, डांसिंग… कुछ भी. कोई भी वह काम जिससे आपको ख़ुशी और रिलैक्सेशन मिले, उसे करना अपने शेड्यूल में ज़रूर डालें.

How to strengthen your relationship during lockdown

चौथा नुस्ख़ा: समय है तो अंतरंग रिश्ते में भी आग लगाने के बारे में सोचें 
आप दोनों अक्सर इस बात की शिकायत करते रहे हैं कि अंतरंग पलों के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता. अब समय मिला है तो अपनी बेडरूम फ़ैंटसीज़ को पूरा करने की कोशिश करें. हर वह काम करें, जो करना लंबे समय से आपकी टू डू लिस्ट पर था. सेंशुअल मसाज से लेकर, रोल प्ले, तांत्रिक सेक्स जैसी बहुत सारी चीज़ें ट्राय करने के लिए हैं, जो आपकी बिस्तर का तापमान बढ़ाने में बेहद कारगर साबित होंगी.

How to strengthen your relationship during lockdown

पांचवां नुस्ख़ा: पुरानी यादों में एक साथ खो जाने का इससे अच्छा समय फिर नहीं मिलेगा
अक्सर हम बातचीत में फ़्यूचर प्लैनिंग करते हैं. आगे के अपने टार्गेट तय करते हैं. उन तक पहुंचने के रोड मैप बनाते हैं. पर इत्मीनान का समय है तो फ़्यूचर को छोड़कर पास्ट की कुछ बातें कर लेंगे. आप नोटिस करेंगे, पास्ट भले ही दुखदायी रहा हो, पर उसकी बातें करना हमेशा सुखद अनुभव की तरह होता है. पुराने दुखों पर चर्चा करने का अपना एक अलग ही सुख है. यहां ज़रूरी नहीं कि दुखों की बातें ही करें. आप लोग साथ में बिताए गए अच्छे पलों की यादें भी ताज़ा कर सकते हैं. इससे होगा यह कि आप दोनों एक-दूसरे के और क़रीब आएंगे. साझा पास्ट हमेशा से रिश्तों को जोड़ने का काम करता रहा है.