Covid-19 Vaccine: फाइजर प्रमुख का बयान, कहा-12 महीनों के अंदर कोविड-19 की बूस्टर वैक्सीन की हो सकती है जरूरत

Covid-19 Vaccine: फाइजर प्रमुख का बयान, कहा-12 महीनों के अंदर कोविड-19 की बूस्टर वैक्सीन की हो सकती है जरूरत

<p style="text-align: justify;">फाइजर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अल्बर्ट बोर्ला ने कहा है कि पूरी तरह से वैक्सीनेशन के लिए लोगों को 12 महीनों के अंदर कोविड-19 वैक्सीन का एक बूस्टर डोज की जरूरत हो सकती है. उन्होंने ये भी कहा कि संभव है कि लोगों को कोरोना वायरस के खिलाफ सालाना टीकाकरण की जरूरत हो. उनका कहना है कि ऐसी परिस्थिति होने की संभावना है एक तीसरे डोज की जरूरत हो छह महीने और 12 महीने के बीच और फिर वहां से सालाना दोबारा टीकाकरण हो, लेकिन इस बात की पुष्टि की जानी चाहिए. और एक बार फिर वेरिएन्ट्स एक भूमिका अदा करेगा.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>कोरोना के खिलाफ सुरक्षा के लिए एक और डोज की जरूरत</strong></p>
<p style="text-align: justify;">गौरतलब है कि इससे पहले जॉनसन एंड जॉनसन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलेक्स गोर्सकी ने फरवरी में बताया था कि लोगों को कोविड-19 के खिलाफ सालाना टीकाकरण की आवश्यकता हो सकती है, ठीक उसी तरह जैसे मौसमी फ्लू की वैक्सीन. शोधकर्ता अभी भी नहीं जानते हैं कि पूरी तरह वैक्सीन के डोज लगवा लेने के बावजूद वायरस के खिलाफ सुरक्षा कब तक रहती है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>फाइजर ने वेरिएन्ट्स की भूमिका पर भी किया आगाह</strong></p>
<p style="text-align: justify;">फाइजर ने इस महीने की शुरुआत में बताया था कि उसकी कोविड-19 वैक्सीन 91 फीसद से ज्यादा कोरोना वायरस के खिलाफ सुरक्षित देने में प्रभावी है और 95 फीसद से ज्यादा गंभीर बीमारी के खिलाफ दूसरे डोज के बाद छह महीने तक. फाइजर की तरह समान तकनीक पर आधारित मॉडर्ना की वैक्सीन भी छह महीनों के लिए अत्यधिक प्रभावी साबित हो चुकी है. फाइजर का डेटा 12 हजार से ज्यादा वैक्सीन लगवा चुके लोगों पर आधारित था.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a title="नेपाल में भारतीय व्यापारी ले रहे चीनी कोरोना वायरस वैक्सीन, जानें क्या है वजह" href="https://www.abplive.com/news/world/indian-traders-doing-business-in-china-are-getting-vaccinated-in-nepal-hospitals-1902021">नेपाल में भारतीय व्यापारी ले रहे चीनी कोरोना वायरस वैक्सीन, जानें क्या है वजह</a></strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a title="मालदीव के विदेश मंत्री बोले- भारत ने अन्य देशों को टीका देकर दुनिया के सामने मिसाल पेश की" href="https://www.abplive.com/news/world/maldives-foreign-minister-said-india-set-an-example-in-front-of-the-world-by-giving-vaccines-to-other-countries-1902017">मालदीव के विदेश मंत्री बोले- भारत ने अन्य देशों को टीका देकर दुनिया के सामने मिसाल पेश की</a></strong></p>
<p style="text-align: justify;">हालांकि, शोधकर्ताओं का कहना है कि ज्यादा डेटा की अभी भी जरूरत है ये निर्धारित करने के लिए क्या सुरक्षा छह महीनों के बाद भी रहती है. बाइडेन प्रशासन के कोविड रिस्पॉन्स से जु़ड़े एक अधिकारी डेविड केसलर ने कहा कि अमेरिकियों को कोरोना वायरस वेरिएन्ट्स के खिलाफ सुरक्षा के लिए बूस्टर वैक्सीन हासिल करने की उम्मीद करनी चाहिए.&nbsp;उनका ये भी कहना था कि वर्तमान में अधिकृत वैक्सीन अत्यंत प्रभावी हैं मगर ये भी माना कि नए वेरिएन्ट्स वैक्सीन के असर को ‘चुनौती’ दे सकते हैं. उन्होंने कोरोना वायरस संकट पर गठित एक कमेटी को बताया था, "इस वक्त हम सब कुछ नहीं जानते हैं.</p>
<p style="text-align: justify;">हम एंटी बॉडी रिस्पॉन्स के टिकाऊपन पर रिसर्च कर रहे हैं." फरवरी में फाइजर और बायोएनटेक ने कहा था कि कोरोना वायरस के नए वेरिएन्ट्स के खिलाफ इम्यूनिटी रिस्पॉन्स को बेहतर समझने के लिए हम अपनी कोविड-19 वैक्सीन के तीसरे डोज की जांच कर रहे हैं. मॉडर्ना के मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्टीफन बेंसल ने सीएनबीसी को बुधवार को बताया कि कंपनी दो डोज वाली वैक्सीन के लिए अतिरिक्त वैक्सीन की उम्मीद करती है.&nbsp;</p>

Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here