शराब को अकेले में पीने वाले को हो सकती है खतरनाक बीमारी

शराब को अकेले में पीने वाले को हो सकती है खतरनाक बीमारी

बहुत से लोग ऐसे हैं जो शराब का सेवन कभी कभी करते हैं। और कुछ लोग ऐसे भी हैं जो शराब का सेवन प्रतिदिन या दिन में कई बार भी किया करते हैं। ज्यादा मात्रा में शराब पीने से शराबकी लत लगने का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। और शराब की लत लगने पर आदमी अपने शरीर की स्थिति को खो बैठता है। तब भी इंसान शारीरिक और मानसिक समस्याएं होने पर भी

हमेशा शराब पीने लगता है, और शराब की लत लगने से मानसिक और शारीरिक तथा सामाजिक समस्याएं होने लगती हैं। जिससे शराब से शरीर के अंदर के अंगों में समस्याएं पैदा होने लगती हैं लीवर खराब होने लगता है मानसिक समस्या होने लगती है कार्य करने में असमर्थ हो जाते हैं और विभिन्न प्रकार की बीमारियां होने लगती हैं। और हम आपको बता दें कि शराब की लत से लिंग संबंधित बीमारियां होने लगती हैं। और यह समस्या महिलाओं और पुरुषों दोनों में आने लगती है।।

शराबी के लक्षण- शराब की लत लगने पर मनुष्य शराब से होने वाले नुकसान के बारे में जानते हुए भी छोड़ नहीं पाता है।

और इसका सेवन करता रहता है। और ज्यादातर अकेले में ही शराब पीना पसंद करता है। अगर आप किसी शराबी से शराब पीने के बारे में पूछते हैं, तो वह प्रतिकूल हो जाता है। और आप से शराब पीने के लिए नए नए बहाने ढूंढने लगता है। और ज्यादा शराब पीने से काम करने की शक्ति कम होने लगती है और अपने काम में उसका लगाओ बहुत कम हो जाता है। उसकी प्रक्रिया के प्रदर्शन में कमी आने लगती है। आपको इसको शराब पीने के लिए मना करने लगता है तो वह शराबी बहुत हिंसक होने लगता है शराब पीने वालों की याददाश्त बहुत कमजोर हो जाती है। और इस तरह के व्यक्ति को शराब पीने की वजह से भूख भी बहुत कम लगती है और वह भोजन की कमी करने लगता है। जिससे शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती हैं शरीर मैं बहुत से लोग पैदा होने लगते हैं। जिससे वह कई बीमारियों का शिकार हो जाता है। सबसे पहले तो लीवर खराब होने लगता है।

पाचन क्रिया में गड़बड़ी हृदय में सूजन आना और जलन होने लगना कई प्रकार की गंभीर बीमारियां एक साथ शरीर पर प्रहार करते हैं जिससे उस व्यक्ति का बचना बहुत मुश्किल हो जाता है और वह बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।।

इसका इलाज- इसका इलाज बहुत अच्छा है, पहले तो खून की जांच करानी पड़ती है। इससे खून में अल्कोहल की मात्रा का पता चलता है। और लिवर की जांच मैग्नीशियम की जांच करा लेना चाहिए। शराब की लत होने पर डॉक्टर से सहायता लेनी चाहिए। और इसी के साथ खुद पर नियंत्रण रखना चाहिए।

बहुत से लोग सीबीटी के माध्यम से भी शराब पीना छोड़ देते हैं।

इसमें आप आयुर्वेद दवाओं का जरूर सेवन करना चाहिए क्यों की आयुर्वेदिक दवाएं अच्छे से कारगर दिखाती हैं।

शराब की लत से बचने के लिए आपको क्लोडाईजीपोक्साइट का भी सेवन करना चाहिए। और शराब की इच्छा को समाप्त करने के लिए अकेप्रोसेट और नाल्ट्रिक्जोन इसका बहुत बढ़िया इलाज का स्रोत है। इन दवाओं को सही मात्रा में प्रयोग करके निश्चित रूप से आप अपने शराब की लत को छोड़ा सकते हैं और होने वाले गंभीर बीमारियों को दूर कर सकते हैं इन दवाओं का सेवन 6 महीने से लेकर 12 महीने तक किया जाता है।

जिससे आपकी शराब की लत छूट जाती है और आप शराब का सेवन करना बंद कर देते हैं। यही इसका सबसे अच्छा इलाज है।।