विराट कोहली से तुलना करने पर पाकिस्तानी टीम के कप्तान ने दिया ऐसा रिएक्शन

विराट कोहली से तुलना करने पर बोले पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम-गर्व महसूस होता है...

बाबर आजम एक बेहतरीन प्लेयर हैं और जब भी बाबर आजम अच्छी पारी खेलते हैं तो पाकिस्तान के कई पूर्व दिग्गज उनकी तुलना विराट कोहली से करने लग जाते हैं।

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम की तुलना अक्सर टीम इंडिया के कप्ता न विराट कोहली के साथ की जाती है। बाबर आजम एक बेहतरीन प्लेयर हैं और जब भी बाबर आजम अच्छी पारी खेलते हैं तो पाकिस्तान के कई पूर्व दिग्गज उनकी तुलना विराट कोहली से करने लग जाते हैं। हाल ही एक इंटरव्यू में बाबर आजम से पूछा गया कि जब उनकी तुलना भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली से की जाती है तो उन्हें कैसा लगता है। इस पर बाबर आजम ने बहुत ही दिलचस्प जवाब दिया। हाल ही बाबर आजम को क्रिकेटे के सभी प्रारूपों में पाकिस्तान टीम का कप्तान बनाया गया।

बाबर आजम ने दिया यह जवाब
विराट कोहली से तुलना के सवाल पर बाबर आजम ने कहा कि विराट कोहली विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि कोहली हर बड़े मैच में बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं। आजम का कहना है कि जब लोग उनकी तुलना विराट कोहली से करते हैं तो उन्हें दबाव महसूस नहीं होता बल्कि गर्व महसूस होता है कि उनकी तुलना इतने बड़े खिलाड़ी से की जा रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि वैसे उन्हें नहीं लगता कि उनकी तुलना विराट कोहली से होनी चाहिए, लेकिन जब लोग ऐसा करते हैं तो उन्हें काफी खुशी होती है।

बाबर आजम का कहना है कि वह चाहते हैं कि वह विराट कोहली जैसा प्रदर्शन करें और मैच जिताकर पाकिस्तान को गौरवान्वित होने का अवसर दें। साथ ही उन्होंने कहा कि कोहली और वह अलग-अलग खिलाड़ी हैं। दोनों के खेलने की शैली अलग—अलग हैं। आजम ने कहा कि वह अपनी काबिलियत के हिसाब से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश करते हैं।

यह भी पढ़ें— इंग्लैंड पहुंचने के बाद महिला क्रिकेटर स्मृति मंधाना को नहीं आ रही नींद, वजह भी बताई

babar_azam_.png

तीन शतक रहे टर्निंग पॉइंट
बाबर आजम ने हाल ही वनडे रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया था। जब इंटरव्यू में उनसे इस बारे में सवाल पूछा गया तो बाबर आजम ने कहा कि यह उनके लिए गर्व की बात है कि उनका नाम इतने बड़े खिलाड़ियों के साथ लिया जा रहा है। साथ ही उन्होंने क्रिकेट में यह सम्मान मिलने पर अल्लाह का शुक्रिया किया। साथ ही उन्होंने बताया कि वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने जो तीन शतक लगाए, वह उनकी लाइफ का टर्निंग पॉइंट था। बाबर आजम का कहना है कि इसके बाद से उनका आत्मविश्वास काफी बढ़ गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि हालांकि उनका माइंटसेट हमेशा एक जैसा रहता है और वह हर मैच को इस तरह से खेलते हैं, जैसे वो उनका अंतिम मैच है।

यह भी पढ़ें— क्रिकेट के कौन से नियम में लिखा है कि 30 की उम्र के बाद टीम में चयन नहीं हो सकता: शेल्डन जैक्सन

बाबार आजम का कहना है कि उन्होंने महान खिलाड़ियों से बातचीत करके काफी कुछ सीखा है। उनका कहना है कि कोई भी परफेक्ट नहीं हो सकता है। ऐसे में अपना फोकस बनाए रखना होगा और फिट रहते हुए निरंतरता बनाए रखनी होगी।






Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here