वजन कंट्रोल करने के साथ आपकी त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है कपालभाति

वजन कंट्रोल करने के साथ आपकी त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है कपालभाति

आज हम आपको बताएंगे कपालभाति प्राणायाम के बारे में, जो न सिर्फ आपके वजन को कंट्रोल में रखता है बल्कि इससे कई शारीरिक विकार भी दूर होते हैं।

ज्यादातर लोग वेट लॉस करने के लिए डाइटिंग या फिर जिम ज्वाइन कर लेते हैं लेकिन लम्बे समय से डाइटिंग करने से आप अपना कुछ वजन तो घटा लेते हैं कि शरीर अंदर से कमजोर हो जाता है जिससे बीमारियों की चपेट में आने का खतरा काफी बढ़ जाता है। वहीं, जिम करना हर किसी के लिए संभव नहीं है। ऐसे में अगर आपके पास वजन घटाने का एक आसान तरीका है। आज हम आपको बताएंगे कपालभाति प्राणायाम के बारे में, जो न सिर्फ आपके वजन को कंट्रोल में रखता है बल्कि इससे कई शारीरिक विकार भी दूर होते हैं।

कपालभाति प्राणायाम की विधि
सबसे पहले पद्मासन या सुखासन जैसे किसी ध्यानात्मक आसन में बैठ जाएं। कमर व गर्दन को सीधा कर लें। यहां छाती आगे की ओर उभरी रहेगी। हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रख लें। आंखें बंद करके आराम से बैठ जाएं व ध्यान को श्वास की गति पर ले आएं। यहां पेट ढीली अवस्था में होगा। अब कपालभाति प्रारंभ करें। इसके लिए नाभि से नीचे के पेट को पीछे की ओर पिचकाएं या धक्का दें। इसमें पेट की मांसपेशियां आकुंचित होती हैं। साथ ही, सांस को नाक से बलपूर्वक बाहर की ओर फेंकें, इससे सांस के बाहर निकलने की आवाज भी पैदा होगी। अब अंदर की ओर दबे हुए पेट को ढीला छोड़ दें और सांस को बिना आवाज भीतर जाने दें। सांस भरने के लिए जोर न लगाएं, वह स्वयं ही अंदर जाएगी। फिर से पेट अंदर की ओर दबाते हुए तेजी से सांस बाहर निकालें।

मोटापा कम करने और चेहरे का तेज बढ़ाने अलावा यह प्राणायाम अन्य कई प्रकार से भी लाभकारी है

डायबिटीज व कोलेस्ट्रोल को घटाने में भी सहायक है।
एसीडिटी जैसी पेट की सभी समस्याओं के लिए काफी लाभप्रद है।
बालों की समस्याओं का समाधान प्राप्त होता है।
चेहरे की झुर्रियां, आंखों के नीचे के डार्क सर्कल कम करने में सहायक है।
सभी प्रकार के चर्म समस्या नियंत्रित करने में सहायक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here