रोजाना दो-दो रुपये जोड़कर पाएं 36 हजार रुपये, इस सरकारी योजना में ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

350848c69e9678a5b519caf8b61d35a2?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

लखनऊ. कई लोगों को बुढ़ापे में रिटायरमेंट के बाद अपनी आमदनी को लेकर टेंशन बनी रहती है। कम खर्च चलाने वालों के लिए ये चिंता और भी ज्यादा बढ़ जाती है। ऐसे असंगठित क्षेत्र के कम आयवर्ग वालों को बुढ़ापे में वित्तीय सुरक्षा के लिए मोदी सरकार की एक खास स्कीम पीएम श्रम योगी मानधन (PMSYM) है। इस स्कीम के जरिए 60 साल की उम्र के बाद मंथली तीन हजार रुपये या 36 हजार रुपये सालाना पेंशन मिलने का प्रावधान है। हालांकि, इसके लिए पेंशन का लाभ लेने वाले व्यक्ति को रोजाना दो-दो रुपये या मंथली करीब 60 रुपये का अंशदान करना होगा। श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अनुसार इस स्कीम के जरिए अबतक करीब 45 लाख लोग जुड़ चुके हैं। 

18-40 साल के व्यक्ति जुड़ सकते हैं योजना से

इस पेंशन का लाभ 18-40 साल की उम्र के लोग ले सकते हैं। योजना में जितना ज्यादा अंशदान रहेगा, फायदा भी उतना बड़ा मिलेगा। उदाहरण के तौर पर पेंशन लेने वाला अगर कोई कर्मचारी 18 साल का है तो उसे प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना में 60 साल की उम्र तक हर महीने 55 रुपये जमा कराने होंगे। एक दिन के लिहाज से देखें तो यह करीब दो रुपये होगा। अगर कोई 29 साल का है तो उसे योजना में पेंशन पाने के लिए 60 साल की उम्र तक हर महीने 100 रुपये जमा कराने होंगे। इसी तरह अगर कोई कर्मचारी 40 साल की उम्र में इस योजना से जुड़ता है तो उसे हर महीने 200 रुपये का योगदान करना होगा।

ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

पीएम श्रम योगी मानधन योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए इसके लिए आपके पास आधार कार्ड और बचत खाता/जनधन खाता (IFSC कोड के साथ) होना जरूरी है। पीएम श्रम योगी मानधन पेंशन योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए पास के सीएससी सेंटर पर जाना होगा। वहां आधार कार्ड और बचत खाता या जनधन खाता जो भी उसकी जानकारी आईएफएससी कोड के साथ देनी होगी। एक बार आपकी डिटेल कंप्यूटर में दर्ज होने के बाद मंथली कांट्रीब्यूशन की जानकारी खुद मिल जाएगी। आपको अपना शुरूआती योगदान कैश के रूप में देना होगा। इसके बाद आपका खाता खुल जाएगा और श्रम योगी कार्ड मिल जाएगा। 

योजना का लाभ लेने के लिए शर्त

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना अंसगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए है। इस योजना का लाभ वही ले सकते हैं जिनकी आय 15 हजार रुपये से कम है।