रिश्ता विश्वास का है पवित्र बंधन है कमजोर न पड़ने दें जन्म-जन्म का बंधन

रिश्ते में लाएं विश्वास, कमजोर न पड़ने दें जन्म-जन्म का बंधन

शादी ऐसा पवित्र बंधन होता है जो पति-पत्नी को सात जन्मों के लिए बांध जाता है. पति-पत्नी का रिश्ता दुनिया में सबसे खास और ऊपर होता है. हालांकि आजकल के भागदौड़ भरी जिंदगी में इस रिश्ते की डोर कमजोर पड़ने लगी है. पति-पत्नी अपने ऑफिस के गुस्से को एक-दूसरे पर निकालने लगे है, जो वक्त के साथ इतना बढ़ जाता है कि बात तलाक तक पहुंच जाती है. वहीं शादी के बाद अचानक आई कई जिम्मेदारियां भी इस पवित्र रिश्ता में खटास घोलने लगती है. ऐसे में आज हम कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं , जिसका ध्यान रखकर आप अपनी शादी-शुदा जिंदगी में संतुलन बैठा कर सुकून पा सकते हैं.

रखें विश्वास
कहते हैं कि किसी भी रिश्ते की मजबूती के लिए पहले उसमें विश्वास (Trust) को जगह देना होता है. विश्वात ऐसी डोर होती है जो हर स्थिति में रिश्ते को मजबूती से बांधे रखती है. तो पति-पत्नी को भी एक-दूसरे पर पूरा विश्वास रखना होगा. किसी कि भी बात पर यकीन करने से पहले अपने साथी की बात को सुनना होगा. अगर आपका साथी कुछ कह रहा है तो उसपर विश्वास करना होगा. पति-पत्नी के रिश्ते के लिए विश्वास बहुत महत्वपूर्ण रखता है.

आदतों को करें शेयर
ज्यादातर लोगों की आदतें मेल नहीं खाती है. जब शादी-शुदा जोड़े के बीच यह समस्या होती है तो लड़ाई-झगड़े के चांस बहुत अधिक होते हैं. पति अक्सर पत्नी को आदतों को बताने में हिचकिचाते हैं, जबकि पत्नियां उनकी आदतों को खुलकर बता देती हैं. तो पतियों को भी अगर पत्नी की कोई आदत पसंद नहीं आ रही है तो उनसे बेहिचक शेयर कर सकते हैं.

जलन
पति कुछ चीजों को लेकर पत्नी के प्रति जलते हैं. लेकिन वह कभी खुलकर एक्सप्रेस नहीं करते. कई मोमेंट्स पर पत्नी की दोस्ती या ट्यूनिंग पति को जैलेस फील करवा सकती है. जिसे वह अपने तक ही सीमित रखते.

पैसों से जुड़ी बाते न छिपाएं
अधिकतर घरों में मनी मैटर्स पर पत्नियों का कंट्रोल होता है. लेकिन कुछ कामों में लेन-देन को पति सीक्रेसी बनाए रखना ही पसंद करते हैं. खासतौर से बैंक बैलेंस के बारे में वह अपनी पत्नी संग ज्यादा कुछ नहीं बताते हैं. तो अगर आप चाहते है आपका रिश्ता खराब न हो तो अपने साथी से किसी भी तरह का सीक्रेट न रखें.

भावनाओं को समझें
शादी के बाद भी कई लोग साथी से अधिक जॉब को प्राथमिकता देते हैं. ऐसी उम्‍मीद न करें कि आपका साथी हर वक्‍त आपकी व्‍यस्‍तता को समझेगा. इसलिए काम के साथ पार्टनर की भी भावनाओं को समझें और उन्‍हें समय देने की कोशिश करें. वहीं शादी के बाद कपल्स में झगड़े बढ़ने से लोग शादी को जिंदगी की सबसे बड़ी भूल मानने लगते हैं. झगड़े में भी ऐसी बातें पार्टनर को ना कहें, क्योंकि ऐसी बातें किसी के भी दिल को चुभ सकती हैं.

गुस्से पर रखें कंट्रोल
बिजी शेड्यूल होने से कई बार पार्टनर आपको समय नहीं दे पाता और जब वह आपके करीब आने की कोशिश करता है तो आप उसे स्‍वार्थी समझने की भूल कर बैठते हैं. ऐसे में पार्टनर डिस्टर्ब हो सकता है. गुस्से में भी इस तरह के शब्‍दों का प्रयोग न करें