‘मेरी बहन तो अनपढ़ थी, फोन कहां से चलाती’, कॉल डीटेल्‍स के दावों पर हाथरस पीड़िता के परिवार को भरोसा नहीं, कहा-रिकॉर्डिंग सुनाए

'मेरी बहन तो अनपढ़ थी, फोन कहां से चलाती', कॉल डीटेल्‍स के दावों पर हाथरस पीड़िता के परिवार को भरोसा नहीं, कहा-रिकॉर्डिंग सुनाए

भाई ने आरोप लगाया कि परिवार को बदनाम करने और दबाव बनाने की कोशिश हो रही है।

Highlightsआरोपी संदीप के फोन से पीड़िता के भाई के फोन पर पिछले 6 महीने में 104 बार बातचीत हुई थी। पीड़िता के भाई ने कहा कि सारे आरोप झूठे है।

लखनऊ: हाथरस गैंगरेप कांड कॉल डीटेल्‍स सामने आने से नया मोड़ आ गया है। एसआईटी की जांच में पता चला है कि आरोपी संदीप के फोन से पीड़िता के भाई के फोन पर पिछले 6 महीने में 104 बार बातचीत हुई थी। इस खुलासे पर पीड़िता के परिवार ने सफाई दी। पीड़िता के भाई ने कहा कि सारे आरोप झूठे है। भाई ने आरोप लगाया कि परिवार को बदनाम करने और दबाव बनाने की कोशिश हो रही है। उसने कहा कि ‘मेरी बहन तो अनपढ़ थी, फोन कहां से चलाती। अगर बात होती थी तो रिकॉर्डिंग सुनाई जाए।’

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता के भाई ने कहा कि जिस मोबाइल नंबर की बात की जा रही है, वो हमारा ही है। हम उसका इस्तेमाल कई सालों से कर रहे हैं और यह नंबर घर पर रहता है। उन्होंने दावा किया कि फोन रिकॉर्ड के आधार पर लगाए जा रहे सारे आरोप झूठे हैं। हम इस मामले में एसआईटी के सामने जवाब देंगे।

पीड़िता के भाई ने कहा, ‘मैं उनसे (आरोपी) बात क्यों करूंगा? वह हमारी जाति से भी नहीं है। हमारे रिश्तेदार नहीं है। हम क्यों बात करेंगे? हमने बात नहीं की। परिवार ने आरोप लगाया कि मामले में आरोपियों को बचाने की कोशिश हो रही है। पीड़‍िता के भाई ने कहा कि ‘चारों तरफ से हम लोगों को दबाया जा रहा है। आरोपियों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। आरोपी सारा इल्‍जाम हमारे ऊपर थोप रहे हैं।’

पीड़िता के भाई और आरोपी के बीच 100 से ज्यादा बार हुई फोन पर बात

8fcd89d38ac199ab64c4c92ba8112234 1?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

बताया जा रहा है कि पीड़िता के परिवार और मुख्य आरोपी संदीप के बीच पुरानी जान-पहचान थी। पुलिस के मुताबिक, जांच में पता चला है कि संदीप को पीड़िता के भाई के नाम से एक नंबर से नियमित कॉल आए। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़िता के भाई के नंबर 989xxxxx और संदीप के 76186xxxxx के बीच 13 अक्टूबर, 2019 से टेलीफोनिक बातचीत शुरू हुई। अधिकांश कॉल चंदपा क्षेत्र में स्थित और सेल टॉवरों से किए गए थे, जो पीड़िता के गांव बूलगढ़ी से बमुश्किल 2 किमी दूर थे।

पीड़िता के भाई और घटना के मुख्य आरोपित संदीप सिंह की कॉल डिटेल सामने आने के बाद कई सवाल खड़े हो रहे हैं। रिकार्ड्स में यह भी सामने आया है कि युवती के भाई के नंबर से आरोपित संदीप सिंह के नंबर पर 62 बार और संदीप के नंबर से युवती के भाई के मोबाइल पर 42 बार काल की गई।

क्या है हाथरस कांड का पूरा मामला?

8fcd89d38ac199ab64c4c92ba8112234 2?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

हाथरस की घटना 14 सितंबर को हुई थी, जब पीड़िता एक खेत में काम कर रही थी। जब उसे आरोपी ने पास के खेत में खींच लिया था और उसके साथ मारपीट की गई थी। परिवार का आरोप है कि उसके साथ गैंगरेप किया गया और उसका गला घोंटा गया। इसके चलते उसे गर्दन की हड्डियों और रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोटों के साथ अलीगढ़ के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में उसे दिल्ली के एक अस्पताल में भेजा गया, जहां 29 सितंबर को उसकी मृत्यु हो गई। इस केस में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें संदीप भी शामिल है। वहीं, पीड़िता का रात में दाह संस्कार कराने को लेकर प्रशासन निशाने पर था।