‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ मुहिम पर ऑस्ट्रेलियाई टीम में डिस्कशन नहीं होने का लैंगर को खेद

DA Image

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कोच जस्टिन लैंगर को खेद है कि ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ मुहिम के तहत इंग्लैंड दौरे पर मैच से पहले घुटने के बल बैठकर विरोध जताने को लेकर टीम में ज्यादा बात नहीं हुई। इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के क्रिकेटरों ने जुलाई में तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला के हर मैच से पहले ऐसा किया था, लेकिन आस्ट्रेलियाई टीम के दौरे पर यह नहीं देखने को मिला।

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच ने पहले कहा था कि इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन से बात करने के बाद उन्होंने ऐसा नहीं करने का फैसला किया क्योंकि उन्हें लगता है कि विरोध करने से अहम जागरूकता पैदा करना है। इस बारे में पूछने पर लैंगर ने स्वीकार किया कि खिलाड़ियों को इस मसले पर ज्यादा बात करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा, ”मुझे लगता है कि हमें इस पर ज्यादा बात करनी चाहिये थी । इतना कुछ हो रहा था और हमें इस पर जरूर और बात करने की जरूरत थी।”

‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ को लेकर ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड पर बरसे माइकल होल्डिंग, जानें क्या कुछ कहा

इससे पहले वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने मैचों से पूर्व एक घुटने के बल बैठकर ब्लैक लाइव्स मैटर (बीएलएम) का सांकेतिक समर्थन नहीं करने के लिए इंग्लैंड की आलोचना की थी जो जोफ्रा आर्चर को नागवार गुजरी जिन्होंने कहा कि उनकी राष्ट्रीय टीम के क्रिकेटर इस आंदोलन को नहीं भूले हैं। इंग्लैंड ने पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैचों से पहले ऐसा कोई सांकेतिक समर्थन नहीं किया था जिसकी होल्डिंग ने आलोचना की थी।

बीएलएम यानि अश्वेतों का जीवन भी मायने रखता है, एक राजनीतिक और सामाजिक आंदोलन है जो अश्वेत लोगों के खिलाफ पुलिस की बर्बरता के विरोध में शुरू हुआ था। आर्चर ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा, ”हम नहीं भूले हैं, यहां कोई भी ब्लैक लाइव्स मैटर को नहीं भूला है। मुझे लगता है कि यह माइकल होल्डिंग के लिए थोड़े कड़े शब्द होंगे कि उन्होंने आलोचना करने से पहले कोई शोध नहीं किया। मुझे पूरा विश्वास है कि वह नहीं जानते कि पर्दे के पीछे क्या हो रहा है।”

Source link