फ्रांस में पैग़म्बर साहब की शान में गुस्ताखी मामले में तालिबान की तरफ से आया बड़ा बयान ..अब होगा

फ्रांस सरकार द्वरा नबी पाक की गुस्ता’खी के खिलाफ पूरी दुनिया में ग’म गु’स्से का माहौल है और लोग अभी तक प्रद’र्शन कर रहे हैं और फ्रेंच उत्पा’दों का बा’यकाट को लेकर ज’बर्दस्त अपील की जा रही है जिस पर फ्रांस की सरकार घु’टने टेकने पर मजबूर हो गई है अब अपने पु’राने बयान पर सफाई देना शुरू कर दिए हैं तुर्की पाकिस्तान मलेशिया की तरफ से बयान के बाद अब तालिबान की तरफ से बड़ा बयान सामने आया है उन्होंने मुस्लिम देशों को आड़े हाथ लिया है। ।

bcac42341d69baba77d830d45c754229 1?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

तालिबान की ऑफिसियल साइट पर जारी पैगाम में कहा गया है फ्रांस के राष्ट्रपति ने न सिर्फ मुस्लिम दुश्मनी की हि’मायत की है बल्कि नबी पाक के की शान में गुस्ता’खी का बचाव करते हुए उसको फ़्रांस की सरकारी पॉलिसी भी बता रहे हैं ।

मुस्लिम उम्माह के विभिन्न वर्गों ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति के इस दमनकारी रवैया पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है पूर्व से लेकर पश्चिम तक लगभग सभी इस्लामिक देशों में विरोध प्रदर्शन हुए और रैलियां भी की गई यहां तक कि आनलाइन विरोध प्रदर्शन हुआ और फ्रांसीसी उत्पादों के खिलाफ बहि’ष्कार अभि’यान भी चलाया गया ।

bcac42341d69baba77d830d45c754229 2?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

जारी बयान में कहा गया विभिन्न वर्गों द्वारा शुरू किया गया वैश्विक विरोध मुसलमानों की एकता और एकजुटता का प्रतीक है दुश्मनों की तरफ से लाख कोशिशों के बाद भी मुसलमानों में अपने धर्म और पवित्र व्यक्तियों में विश्वास और रिश्ता अभी खत्म नहीं हुआ है ।

लेकिन जिस तरह लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया है वैसे ही इस्लामिक दुनिया के हुक्मरान ख्वाब ए गफलत में सोए हुए हैं उन्होंने कहा कि फ्रांसीसी राष्ट्रपति की तरफ से की गई गुस्ता’खी पर सिर्फ कुछ इस्लामिक देशों ने इस मामले पर प्रति’क्रिया जाहिर की है और बाकी सभी लोग इस संवे’दनशील मु’द्दे पर भी चुप रहे।

bcac42341d69baba77d830d45c754229 3?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

कुछ मुस्लिम देश की चुप्पी पर जारी बयान में कहा गया है इस मुश्किल हालात में और इस संवेदनशील मुद्दे पर भी जो खामोश रहते हैं उनको अल्लाह के नजदीक जवाब देना पड़ेगा कोई भी शा’सक जो इस कठिन दिन और ऐसे संवेदन’शील मुद्दे पर भी अपने मुस्लिम भाइयों के साथ खड़ा नहीं होता और इस्लाम के पैगंबर के प्रति स’म्मान भी नहीं दिखाता है वो किस कानून के अनुसार खुद को इस्लामिक देश का नेता मानता है ।

उन्होंने तमाम मुस्लिम से देशों से अपील की है तमाम इस्लामिक देश के शासकों को अपने इस्लामिक पहचान साबित करने का समय आ गया है यह उनकी जिम्मेदारी है कि फ्रांस के राष्ट्रपति का इस्लाम पर दिए गए बया’नबाजी पर गंभी’रता से जवाब दें ताकि इसे एक महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दा बनाया जा सके और एक उ’च्च स्तर पर इस मामले को उठाया जा सके ।

फॉलो करें =>Google news Account & Dailyhunt Account को, और दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले