पीएम मोदी की दोस्ती फिर आई काम, अमेरिका से मिलेंगे खतरनाक ड्रोन

Modi Trump

ट्रंप प्रशासन ने बड़ा बदलाव करते हुए अपने मित्र देशों को ड्रोनों (Drone) का निर्यात करने के मानकों में शुक्रवार को ढील दे दी है.

अब अमेरिका देगा भारत को उन्नत ड्रोन. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

वॉशिंगटन:

भले ही कांग्रेस (Congress) समेत समग्र विपक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की विदेश यात्रा खासकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) से दोस्ती पर सवालिया निशान लगा रहे हों, लेकिन चीन (China) से हालिया विवाद में साफ हो गया कि अमेरिका हर हाल में भारत के साथ खड़ा हुआ है. अब एक कदम और आगे बढ़ते हुए ट्रंप प्रशासन भारत से अपनी दोस्ती निभाने जा रहा है. बताते हैं कि ट्रंप प्रशासन ने बड़ा बदलाव करते हुए अपने मित्र देशों को ड्रोनों (Drone) का निर्यात करने के मानकों में शुक्रवार को ढील दे दी है. नयी नीति के तहत प्रति घंटे 800 किलोमीटर से कम गति से उड़ने वाले ड्रोन अब मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था (एमटीसीआर) के अधीन नहीं रहेंगे.

यह भी पढ़ेंः तो ऐसे जासूसी कराता था चीन! FBI ने किया चीनी महिला रिसर्चर को गिरफ्तार, PLA से रहा है नाता

सहयोगियों की मदद के लिए फैसला
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव कैली मेकनैनी ने एक बयान में कहा, ‘इस कदम से अपने साझेदारों की क्षमताओं में सुधार कर अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा बढ़ेगी और अमेरिकी उद्योग के लिए ड्रोन बाजार का विस्तार करके आर्थिक सुरक्षा में वृद्धि होगी.’ राजनीति सैन्य मामलों के सहायक विदेश मंत्री क्लार्क कूपर ने पत्रकारों से कहा, ‘इससे हमारे सहयोगियों को मदद मिलेगी. इससे उन्हें राष्ट्रीय सुरक्षा और वाणिज्य संबंधी अपनी तत्काल जरूरतों को पूरा करने में मदद मिलेगी तथा साथ ही अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी और आर्थिक हित पूरे होंगे.’

यह भी पढ़ेंः पूर्व RBI गवर्नर रघुराम राजन का बड़ा बयान, कोरोना को हराने में ये तरीके अपनाने वाले देश रहे सफल

भारत भी इस विशेषाधिकार सूची में शामिल
उन्होंने कहा कि क्रूज मिसाइलें, हाइपरसोनिक वायु यान और उन्नत मानवरहित लड़ाकू विमान जैसी उच्च गति वाली प्रणालियां इस बदलाव से प्रभावित नहीं होंगी. अमेरिका अब भी एमटीसीआर का प्रतिबद्ध सदस्य है और इसे उत्तर कोरिया एवं ईरान जैसे देशों को उच्च मिसाइल प्रौद्योगिकियां न देने के हथकंडे के तौर पर महत्वपूर्ण मानता है. कूपर ने कहा कि व्यापक पैमाने पर तबाही मचाने वाले हथियारों के इस्तेमाल और प्रसार को रोकना ट्रंप प्रशासन की प्राथमिकता है. अभी तक केवल तीन देशों इंग्लैंड, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया को अमेरिकी निर्माताओं से बड़े, सशस्त्र ड्रोन खरीदने की अनुमति है. अब इस सूची में भारत का नाम भी जुड़ जाएगा.


First Published : 25 Jul 2020, 10:32:52 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here