पापा है नीतीश के करीबी, मां LJP से सांसद, MBA पास बेटी JDU को हराने के लिए लगा रही जान, कौन है कोमल सिंह

d75eb192433106c561f994799dbc0af0?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

जेडीयू एमएलसी दिनेश सिंह इस बार बहुत ही असहज हैं। एमबीए पास बेटी कोमल सिंह तीर को मरोड़ने के लिए मैदान में है। लेकिन पिता अपनी बेटी के लिए खुल कर वोट भी नहीं मांग रहे हैं। ऐसा ही हाल मुजफ्फरपुर के गायघाट सीट का है। यहां एलजेपी उम्मीदवार कोमल सिंह जेडीयू के महेश्वर यादव को टक्कर दे रही है। कोमल के पिता दिनेश सिंह नीतीश कुमार के करीबी हैं। चर्चाओं के अनुसार नीतीश कुमार कई मौकों दिनेश सिंह को बचा ले गए हैं।

मां हैं सांसद

d75eb192433106c561f994799dbc0af0 1?source=nlp&quality=uhq&format=webp&resize=720

कोमल सिंह की मां वीणा देवी एलजेपी से सांसद हैं। वीणा देवी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में आरजेडी के रघुवंश प्रसाद सिंह को चुनाव हराया था। वीणा देवी पहले बीजेपी में थीं। वह 2010 में गायघाट सीट से विधायक थीं। 2015 के विधानसभा चुनाव में आरजेडी के महेश्वर यादव से चुनाव हार गई थीं। उसके बाद 2019 में एलजेपी ने वीणा देवी को वैशाली से टिकट दिया और वह जीत कर दिल्ली पहुंच गईं।

एनडीए से नहीं मिला टिकट

गायघाट सीट इस बार जेडीयू के पास है। जेडीयू ने यहां से इस बार आरजेडी छोड़ कर आए महेश्वर यादव को टिकट दिया है। महागठबंधन में रहते हुए महेश्वर यादव लगातार लालू परिवार का विरोध कर रहे थे। वहीं, सांसद वीणा देवी भी चाहती थीं कि उनकी बेटी कोमल सिंह को गायघाट से टिकट मिले। लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो कोमल सिंह एलजेपी से मैदान में उतर गई हैं।

एमबीए पास हैं कोमल सिंह

कोमल सिंह जेडीयू एमएलसी दिनेश सिंह की इकलौती बेटी हैं। एमबीए करने के बाद कोमल सिंह ने कई बड़ी कंपनियों में नौकरी की है। बताया जा रहा है कि वह मुजफ्फरपुर जिले में सबसे कम उम्र की उम्मीदवार हैं। साथ ही जिले के प्रत्याशियों में सबसे ज्यादा पढ़ी लिखी हैं। कोमल सिंह 8 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति की मालिक भी हैं। शेयर मार्केट भी उनका निवेश है।

मां मांग रहीं वोट

बेटी कोमल सिंह के चुनावी अभियान से पिता दिनेश सिंह दूरी बनाए हुए हैं। वह सार्वजनिक रूप से एक्टिव नजर नहीं आते हैं। लेकिन मां वीणा देवी लगातार गायघाट क्षेत्र में बेटी कोमल सिंह के लिए वोट मांग रही हैं। नामांकन दाखिल करने के बाद से कोमल सिंह लगातार अपने क्षेत्र में चुनावी जनसभाएं कर रही हैं। गायघाट से कोमल ने चुनावी मैदान में उतर कर मुकाबाले को दिलचस्प बना दिया है।

नीतीश की उधेड़ रही हैं बखिया

कोमल सिंह लगातार विकास कार्यों को लेकर नीतीश सरकार पर सवाल उठा रही हैं। वह सोशल मीडिया पर अपने क्षेत्र की खराब सड़कें और पुल-पुलिया की तस्वीरें शेयर कर रही हैं। साथ ही जेडीयू उम्मीदवार महेश्वर यादव को हराने के लिए जी जान से लगी हुई हैं। स्थानीय लोगों का मानना है कि इस क्षेत्र में मुकाबला जेडीयू और एलजेपी में ही है। क्योंकि यह क्षेत्र यादव और भूमिहार बहुल है।

5 बार के विधायक महेश्वर यादव को दे रही टक्कर

वहीं, जेडीयू उम्मीदवार महेश्वर यादव भी इस सीट से धाकड़ उम्मीदवार हैं। वह 5 बार विधायक रहे हैं। 1990 से 2005 तक वह लगातार आरडजेडी से विधायक रहे हैं। 2010 में कोमल सिंह की मां वीणा देवी से महेश्वर यादव चुनाव हार गए थे। लेकिन 2015 में फिर से वह चुनाव जीत गए। नीतीश कुमार के महागठबंधन से अलग होने के बाद उनके सुर भी बदल गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here