पर्यटकों के लिए स्वर्ग से सुंदर है हिमाचल की स्पीती घाटी

पर्यटकों के लिए स्वर्ग से सुंदर है हिमाचल की स्पीती घाटी


लॉकडाउन की वजह से लोग करीब महीने भर से तो घरों में कैद ही हैं, इसके और लंबा चलने की उम्मीद है। ऐसे में फिलहाल तो कोई घूमने का प्लान नहीं बना रहा होगा, लेकिन जब लॉकडाउन खत्म हो जाए और हालात सामान्य हो जाए तो आपकी ट्रैवल डायरी में कोई विदेशी लोकेशन नहीं, बल्कि हिमाचल की यह खूबसूरत घाटी ज़रूर होनी चाहिए।
 

इसे भी पढ़ें: ट्यूलिप गार्डन में खिले लाखों फूल पर निहारने वाला कोई नहीं

शांत और सुंदर है स्पीति
जो लोग भीड़-भाड़ से दूर किसी शांत और खूबसूरत जगह पर कुछ पल बिताना चाहते हैं और बर्फ से ढंके पहाड़ जिन्हें आकर्षित करते हैं, उनके लिए हिमाचल प्रदेश के लौहाल स्पीति जिला में स्थित स्पीति घाटी परफेक्ट डेस्टिनेशन हैं। इसकी खूबसूरती आपको स्वर्ग में होने का एहसास कराएगी। यहां हरियाली नहीं है, लेकिन सफेद बर्फ से ढंके पहाड़ इस जगह की सुंदरता में चार चांद लगा देते हैं। साल के अधिकांश महीने बर्फ से ढंके होने की वजह से ही इसे ठंडा रेगिस्तान भी कहा जाता है। यहां घूमने के लिए गर्मियों का मौसम उपयुक्त है। 
यहां बर्फबारी बहुत ज़्यादा होती है, इसलिए साल में बस कुछ महीने ही यह पर्यटकों के लिए खुला रहता है। आपको जानकर शायद थोड़ी हैरानी होगी कि पहले यहां विदेशी पर्यटक नहीं आ सकते थे, लेकिन 1991 के बाद से यह प्रतिबंध हटा दिया गया। यहां वैसे तो कई समुदाय और संस्कृति के लोग रहते हैं, लेकिन सबसे ज़्यादा संख्या बौद्ध धर्म मानने वालों की है। प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के साथ ही यहां आपको कई मठ और खूबसूरत झील भी देखने को मिलेगी।
 

इसे भी पढ़ें: पानी पर तैरते होटल की खासियत जानकर आप रह जाएंगे हैरान, करनी पड़ती है एडवांस बुकिंग!

इन जगहों की करें सैर
स्पीति जाने पर इन जगहों को अपनी मस्ट विजिट लिस्ट में ज़रूर शामिल करें।
किब्‍बर गांव- यह दुनिया का सबसे ऊंचा गांव है और फोटोग्राफी के लिए बेस्ट जगह है। यहां वाइल्ड लाइफ सेंचुरी भी है, जहां आपको कई तरह जानवर दिखेंगे।
त्रिलोकनाथ मंदिर- यह मंदिर चंद्रबाग घाटी में स्थित है। इस मंदिर की खासियत यह है कि इसमें हिंदू और बौद्ध धर्म के लोग साथ-साथ पूजा करते हैं। 
ग्‍यू मम्‍मी- यह स्पीति घाटी का एक छोटा-सा गांव है। इस गांव में बस दर्जनभर घर ही हैं। यहां भिक्षु सांघा तेजिंग मम्‍मी के रूप में प्रसिद्ध है। यह देश की इकलौती जगह है जो कुदरती मम्‍मी के लिए मशहूर है। 
चंद्रताल झील- इस झील का आकार अर्ध चंद्राकार है, इसलिए इसे चंद्रताल कहा जाता है। यहां आप ट्रैकिंग के लिए जा सकते है। 
धनकर झील- यह झील धनकर गांव से 45 किमी की दूरी पर है धनकर झील। इस झील से मनिरंग चोटी का खूबसूरत नजारा दिखता है। गर्मी के मौसम में इस झील का पानी भाप बनकर उड़ जाता है और यहां सिर्फ पशु ही नज़र आते हैं।
कैसे जाएं?
बाकी पर्यटक स्थलों की तुलना में स्पीति थोड़ा कम विकसित है। यह मनासी से सड़कमार्ग से जुड़ा हुआ है तो आप बाई रोड वहां पहुंच सकते हैं।
– कंचन सिंह