दोपहिया बनाने वाली दिग्गज कंपनी Bajaj Auto के मुनाफे में भारी गिरावट

नई दिल्ली:

Bajaj Auto Q1 Results 2020-21: दोपहिया क्षेत्र की प्रमुख कंपनी बजाज ऑटो (Bajaj Auto) का चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) का एकीकृत शुद्ध लाभ 60.92 प्रतिशत घटकर 395.51 करोड़ रुपये रह गया. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 1,012.17 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था. शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी परिचालन आय 60.29 प्रतिशत घटकर 3,079.24 करोड़ रुपये रह गई, जो 2019-20 की पहली तिमाही में 7,755.82 करोड़ रुपये रही थी.

यह भी पढ़ें: डुकाती पैनिगेल वी2 की भारत में शुरू हो गई बुकिंग, जानिए क्या है बुकिंग अमाउंट

कंपनी का वाहन बिक्री का आंकड़ा घटकर 4,43,103 इकाई रहा
तिमाही के दौरान कंपनी का वाहन बिक्री का आंकड़ा घटकर 4,43,103 इकाई पर आ गया. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 12,47,174 वाहन बेचे थे. कंपनी ने कहा है कि चालू वित्त वर्ष 2020-21 कोविड-19 महामारी की वजह से काफी चुनौतीपूर्ण है. लॉकडाउन और अन्य पाबंदियों के चलते आपूर्ति श्रृंखला बुरी तरह प्रभावित हुई है और मांग में भी भारी गिरावट आई है.

यह भी पढ़ें: मारूति सुजूकी इंडिया ने CNG को लेकर बनाई ये बड़ी योजना, छोटा BS-6 डीजल इंजन बनाने का इरादा नहीं

लॉकडाउन से शेयर बाजारों में खुदरा निवेशकों की भागीदारी बढ़ी: सेबी

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी पर अंकुश के लिए लागू लॉकडाउन के दौरान शेयर बाजारों में खुदरा निवेशकों की भागीदारी बढ़ी है। सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने बुधवार को उद्योग मंडल फिक्की के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इस दौरान डीमैट खातों की संख्या में अच्छा-खासा इजाफा हुआ है. इसकी वजह बाजार में नए निवेशकों की भागीदारी बढ़ना है. त्यागी ने कहा कि इसके अलावा नियामक ने कंपनियों द्वारा धन जुटाने की प्रक्रिया को भी आसान किया है.

यह भी पढ़ें: BS6 Mahindra Mojo 300 ABS बाइक की तस्वीर आई सामने, इन नए कलर्स के साथ आएगी बाजार में

महामारी की वजह से कंपनियों को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, जिसके चलते ये कदम उठाए गए हैं. इन उपायों में राइट्स इश्यू, अनुवर्ती सार्वजनिक निर्गम (एफपीओ), पात्र संस्थागत नियोजन से संबंधित नियम और तरजीही निर्गम के जरिये शेयरों के आवंटन के लिए सुगम मूल्य ढांचा आदि शामिल है. दबाव वाली संपत्तियों की समस्या से जूझ रही कंपनियों को सुगमता से तरजीही आवंटन के जरिये धन जुटाने की सुविधा को सेबी ने इस तरह के निर्गमों के लिए मूल्य तय करने के तरीकों में ढील दी और आवंटियों को खुली पेशकश की प्रतिबद्धताओं से छूट दी है.