जानें कैसे महिला के लिए जानलेवा बन गया दुपट्टा

जानें कैसे महिला के लिए जानलेवा बन गया दुपट्टा

आम तौर पर आप ने टू व्हीलर पर जाती हुई महिलाओ के चहरे पर नकाब देखा होगा। पूरे चहरे को ढकने वाले इस नकाब का इस्तेमाल महिलाएं धूप और धूल से बचने के लिए करते है। हालांकि कोरोना के कारण तो अब इसका इस्तेमाल और उपयोगिता बढ़ गई है। हालांकि वराछा की एक महिला के लिए ये नकाब उसकी मृत्यु का कारण बन गया। बेटी का जन्मदिन मनाकर आ रही थी वापिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ओलपाड़ रहने की वाली 47 वर्षीय उमाबेन पटेल अपने पुत्री के जन्मदिन के अवसर पर अपने दोनों पुत्रो के साथ अपने घर से वराछा के हिराबाग के लिए निकली थी। पुत्री का जन्मदिन मनाकर जब उषा बेन अपने पुत्र जैनिश और तिक के साथ वापिस घर आ रहे थे, तभी दांडी रोड पर आए हुये कुकणी रेल्वे फाटक के पास उनका दुपट्टा मोटर साइकल मे फंस गया था। जिसकी वजह से वह ज़ोर से नीचे गीर गए थे और सर मे तेज चोट लगने से उनकी मौत हो गई। कोरोना से बचने के लिए मास्क के तौर पर इस्तेमाल कर रही थी […]

आम तौर पर आप ने टू व्हीलर पर जाती हुई महिलाओ के चहरे पर नकाब देखा होगा। पूरे चहरे को ढकने वाले इस नकाब का इस्तेमाल महिलाएं धूप और धूल से बचने के लिए करते है। हालांकि कोरोना के कारण तो अब इसका इस्तेमाल और उपयोगिता बढ़ गई है। हालांकि वराछा की एक महिला के लिए ये नकाब उसकी मृत्यु का कारण बन गया। बेटी का जन्मदिन मनाकर आ रही थी वापिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ओलपाड़ रहने की वाली 47 वर्षीय उमाबेन पटेल अपने पुत्री के जन्मदिन के अवसर पर अपने दोनों पुत्रो के साथ अपने घर से वराछा के हिराबाग के लिए निकली थी। पुत्री का जन्मदिन मनाकर जब उषा बेन अपने पुत्र जैनिश और तिक के साथ वापिस घर आ रहे थे, तभी दांडी रोड पर आए हुये कुकणी रेल्वे फाटक के पास उनका दुपट्टा मोटर साइकल मे फंस गया था। जिसकी वजह से वह ज़ोर से नीचे गीर गए थे और सर मे तेज चोट लगने से उनकी मौत हो गई। कोरोना से बचने के लिए मास्क के तौर पर इस्तेमाल कर रही थी […]

(Photo Credit : deccanchronicle.com)

आम तौर पर आप ने टू व्हीलर पर जाती हुई महिलाओ के चहरे पर नकाब देखा होगा। पूरे चहरे को ढकने वाले इस नकाब का इस्तेमाल महिलाएं धूप और धूल से बचने के लिए करते है। हालांकि कोरोना के कारण तो अब इसका इस्तेमाल और उपयोगिता बढ़ गई है। हालांकि वराछा की एक महिला के लिए ये नकाब उसकी मृत्यु का कारण बन गया।

बेटी का जन्मदिन मनाकर आ रही थी वापिस

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ओलपाड़ रहने की वाली 47 वर्षीय उमाबेन पटेल अपने पुत्री के जन्मदिन के अवसर पर अपने दोनों पुत्रो के साथ अपने घर से वराछा के हिराबाग के लिए निकली थी। पुत्री का जन्मदिन मनाकर जब उषा बेन अपने पुत्र जैनिश और तिक के साथ वापिस घर आ रहे थे, तभी दांडी रोड पर आए हुये कुकणी रेल्वे फाटक के पास उनका दुपट्टा मोटर साइकल मे फंस गया था। जिसकी वजह से वह ज़ोर से नीचे गीर गए थे और सर मे तेज चोट लगने से उनकी मौत हो गई।

कोरोना से बचने के लिए मास्क के तौर पर इस्तेमाल कर रही थी दुपट्टा

शहर मे सभी को कोरोना से बचाने के लिए तंत्र द्वारा मास्क का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया गया है। जिसके चलते उमाबेन अपने दुपट्टे का मास्क के तौर पर इस्तेमाल कर रही थी। जिससे की वह भी इस महामारी की असर से बची रह सके। हालांकि मोटरसाइकल मे आने के वजह से वह गाड़ी पर से गिर गई थी और सर मे गंभीर चोट लगने से उनकी मृत्यु हो गई। इसके अलावा उमाबेन के दोनों पुत्र जैनिश और तिक को भी सामान्य चोटें आई है।