चिकन का नाम सुनते ही दो साल से कोमा के मरीज को आया होश – Stress Buster

चिकन का नाम सुनते ही दो साल से कोमा के मरीज को आया होश - Stress Buster

ऐसा कहा जाता है कि हमारी दुनिया में बहुत से लोग हैं जो केवल खाने के लिए रहते हैं। अगर ऐसे लोग मरने वाले हैं, तो उन्हें अपने दिमाग में भोजन लाना चाहिए। वैसे, दुनिया में सबसे ज्यादा खाया जाने वाला खाना माशाहारी है। अगर हम देखें तो भारत में ज्यादातर मांसाहारियों में चिकन खाया जाता है।

 

वैसे, इन लोगों को भी यह पसंद है। ऐसे कई मामले सामने आए हैं जिनमें लोग चिकन का स्वाद लेने के लिए किसी भी लम्बाई में चले जाते हैं। लेकिन आज हम आपको एक अनोखा मामला बताने जा रहे हैं। यहां तक ​​कि डॉक्टर इस व्यक्ति को पिछले 2 वर्षों से कोमा से बाहर नहीं निकाल सके। इस व्यक्ति को कुछ ही सेकंड में मुर्गे द्वारा कोमा से बाहर निकाल लिया गया।

 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह मामला ताइवान से प्रकाश में आया है। बता दें कि 62 दिन से 18 साल का एक लड़का ट्वैन में कोमा में था। डॉक्टरों द्वारा लाख कोशिशों के बाद भी लड़का होश में नहीं आ रहा था। नमाज की जगह पारिवारिक दवाईयों ने ले ली। लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ कि डॉक्टरों के भी होश उड़ गए।

 

एक दिन मरीज का भाई उसे देखने आया और बात करने लगा। जब वह बात करते-करते थक गया और उसे भूख लगने लगी, तो मरीज के भाई ने कहा, “यार, मुझे भूख लगी है। मैं तुम्हारा पसंदीदा चिकन पट्टिका खाने जा रहा हूं।”


Follow Us: | Google News | Dailyhunt News| Facebook | Instagram | TwitterPinterest | Tumblr |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here