गर्भावस्था के शुरूआती तीन महीनों में बरतें यह सावधानियां

गर्भावस्था के शुरूआती तीन महीनों में बरतें यह सावधानियां


किसी भी महिला के लिए गर्भावस्था के शुरूआती तीन माह काफी चुनौतीपूर्ण होते हैं। इस दौरान महिला के शरीर में काफी बदलाव आते हैं। वजन बढ़ने के अलावा सुस्ती, जी मचलाना, उल्टी का अहसास, मार्निंग सिकनेस व अन्य कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती है। यही वह समय होता है, जब भ्रूण काफी तेजी से विकसित होता है। उसके कई महत्वपूर्ण अंग बनने शुरू हो जाते हैं। ट्राइमेस्टर के अंत तक भ्रूण एक मानव रूप भी प्राप्त करता है। यह शुरूआती तीन माह किसी भी गर्भवती स्त्री के लिए काफी नाजुक माने जाते हैं। इस दौरान जरा सी लापरवाही भी मिसकैरिज का कारण बन सकती हैं। अगर आप एक हेल्दी प्रेग्नेंसी चाहती हैं तो आपको शुरूआती तीन माह में इन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए−

इसे भी पढ़ें: नियमित रूप से करें खजूर का सेवन तो होंगे कई फायदे

रहें हाइड्रेटेड
गर्भावस्था में शरीर को तरल पदार्थों की अधिक आवश्यकता होती है, इससे भ्रूण की ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की जरूरतें पूरी होती है। आपको इस समय हाइड्रेटेड रहने के लिए पानी के अलावा ताजा रस और स्मूदीज आदि का सेवन करें।
 
लें प्रसवपूर्व विटामिन
हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए डॉक्टर के परामर्श पर प्रसवपूर्व विटामिन लें। गर्भावस्था की प्रारंभिक अवस्था में यह मां और भ्रूण दोनों के लिए बेहद आवश्यक है। आप आयरन, फोलिक एसिड और मल्टीविटामिन लें। जहां फोलिक एसिड भ्रूण को किसी भी तरह के जन्म दोष से बचाता है, बल्कि आयरन गर्भावस्था में अनीमिया को रोकता है।
 
छोड़ें धूम्रपान
अगर आप स्मोकिंग करती हैं, तो गर्भावस्था में इसे पूरी तरह त्याग दें। धूम्रपान कई तरह की जटिलताओं जैसे कम इम्युनिटी, लो बर्थ वेट, समय से पहले प्रसव, गर्भपात व एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी की संभावनाओं को बढ़ाता है। इतना ही नहीं, धूम्रपान के कारण अचानक शिशु मृत्यु सिड्रोम का भी खतरा रहता है। इसलिए धूम्रपान को अलविदा कहना ही आपके लिए अच्छा रहेगा। धूम्रपान के अलावा तम्बाकू, अल्कोहल व कैफीन भी आपके लिए समस्या खड़ी कर सकता है, इसलिए इनसे भी दूरी बनाएं।

इसे भी पढ़ें: शुगर को जड़ से खत्म करने में काम आते हैं यह आसान उपाय

खाने का ख्याल
गर्भावस्था में संतुलित डाइट लेना चाहिए। आप विटामिन डी, ओमेगा−3 फैटी एसिड, कैल्शियम व अन्य विटामिन व मिनरल्स को अपनी डाइट में शामिल करें। जहां तक हो सके, प्रिजर्वेटिव्स, फूड कलर्स व प्रोसेस्ड फूड से दूरी ही बनाएं। साथ ही किसी भी फल व सब्जी को खाने से पहले अच्छी तरह धोएं।
 
मिलें स्त्री रोग विशेषज्ञ से
चूंकि किसी भी महिला की गर्भावस्था के शुरूआती तीन माह काफी नाजुक होते हैं। इसलिए एक बार प्रेग्नेंसी कंफर्म हो जाने के बाद तुरंत स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलें। अपनी मेडिकल हिस्टी के बारे में बताएं। साथ ही अगर आपको किसी तरह की कोई स्वास्थ्य समस्या परेशान कर रही हैं तो उसके बारे में भी बताएं ताकि गर्भावस्था में आपको और आपके गर्भस्थ शिशु को कोई समस्या ना हो।
 
मिताली जैन