खूबसूरत हिल स्टेशन चैल में दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट मैदान भी है

खूबसूरत हिल स्टेशन चैल में दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट मैदान भी है


हिमाचल प्रदेश का मशहूर हिल स्टेशन चैल अत्यन्त खूबसूरत स्थल है। शिमला से 44 किलोमीटर और सोलन से 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित चैल अपने प्राकृतिक सौंदर्य के लिए खास तौर पर जाना जाता है। चैल पैलेस की वास्तुकला भी बहुत विख्यात है। यहाँ के महल को एंग्लो-नेपाली युद्ध में पूर्व सहायता के लिए अंग्रेजों द्वारा उन्हें आवंटित भूमि पर ब्रिटिश राज के दौरान पटियाला के महाराजा द्वारा समर रिट्रीट के रूप में बनाया गया था। यहाँ एक क्रिकेट मैदान और पोलो मैदान हैं। यह महल पटियाला के पूर्ववर्ती शाही परिवार के स्वामित्व में था। माना जाता है कि यह दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट मैदान है। चैल निचले हिमालय के अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। सोलन के जुंगा, कुफरी और अश्वनी खड्ड यहाँ के अच्छे ट्रैकिंग पॉइंट हैं। यहां कई इको कैंप आयोजित किए जाते हैं।
 
चैल 2,250 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह स्थान चिर देवदार और विशाल देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है। चैल की एक और विशेषता यह है कि शिमला, सोलन और कसौली को रात में भी यहाँ से देखा जा सकता है। चैल गर्मियों में सुखद और सर्दियों में खूब ठंडा होता है।

इसे भी पढ़ें: कन्याकुमारी की यात्रा के पहले जरूर जान लें ये बातें

चैल का मिलिट्री स्कूल, राष्ट्रीय सैन्य स्कूल देश के पाँच राष्ट्रीय सैन्य स्कूलों में से एक है। यह पटियाला के महाराजा द्वारा बनाई गई प्राचीन इमारतों में से है। चैल अभयारण्य भी देखने लायक जगह है। यह लगभग 10,854.36 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है। चैल अभयारण्य में ‘घोरावल’, ‘कक्कड़’, ‘सांभर’, ‘लाल जंगल का फव्वारा’ और ‘खालिज’ और ‘चीयर’ तीतर हैं। यहाँ माखन जैसी दिखने वाली पोस्टें खुरीन में बनाई गई हैं।
 
हिमाचल प्रदेश में चैल और सोलन के बीच एक छोटा-सा गाँव साधुपुल भी देखने लायक है। यह अश्विनी नदी के ऊपर बने एक छोटे से पुल स्थल के पास एक नदी भोजनालय है। साधुपुल में एक वाटर पार्क और कैफे 30 जून 2017 को खोला गया था। 
 
देवदार के घने जंगलों से घिरा, खूबसूरत चैल क्रिकेट मैदान दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट ग्राउंड है। इसे 1893 में बनाया गया था। चैल महाराजा भूपिंदर सिंह की ग्रीष्मकालीन राजधानी था। इसका उपयोग चैल मिलिट्री स्कूल द्वारा स्कूल के खेल के मैदान के रूप में किया जाता है। मैदान के एक कोने में एक ऐतिहासिक पेड़ है जिस पर मिलिट्री स्कूल ने एक ट्री हाउस बनाया है। चैल गुरुद्वारा भी इस जगह के मुख्य आकर्षणों में से एक है, यह महाराजा द्वारा बनाई जाने वाली पहली इमारत थी और उसके बाद महल का निर्माण किया गया था। गुरुद्वारा इंडो-वेस्टर्न शैली में 1907 में, 22 फीट (6.7 मी॰)में बनाया गया था ऊंची लकड़ी की छत इसकी मुख्य और मुख्य विशेषता है।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है बर्फ से ढका औली

काली का टिब्बा एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है, जिसे काली देवी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह दुनिया भर से तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है। 
 
कैसे पहुँचें
 
चैल चंडीगढ़, दिल्ली और शिमला से सड़क द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डे चंडीगढ़ और शिमला में हैं। रेल से आना चाहते हैं तो कालका-शिमला रेलवे, नैरोगेज लाइन अच्छी है। इस विश्व धरोहर स्थल पर टॉय ट्रेन भी चलती है। चैल का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन कंडाघाट है।
 
– प्रीटी