क्या है कोलन इंफेक्शन? बचने के लिए डायट में शामिल करें यह चीजें

क्या है कोलन इंफेक्शन? बचने के लिए डायट में शामिल करें यह चीजें


हाल ही में बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता इरफान खान का निधन हो गया। उन्हें न्यूरॉडेंडोक्राइन ट्यूमर था जिसका इलाज काफी समय से चल रहा था, इसके अलावा इरफान कोलन इंफेक्शन से भी पीड़ित थे जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई। चलिए आपको बताते हैं कोलन इन्फेक्शन क्या है और इससे बचने के लिए आपको अपनी डायट में किन चीज़ों को शामिल करना ज़रूरी है।
 

इसे भी पढ़ें: बच्चों को डायपर रैश की नहीं होगी समस्या, बस अपनाएं यह उपाय

क्या है कोलन इन्फेक्शन?
कोलन (मलाशय) पाचन तंत्र का अहम हिस्सा होता है। जब आप कुछ खाते हैं तो आपका शरीर उसे पचाने के बाद लिक्विड और सख्त मटीरियल को अलग-अलग करता है और यह काम आंत करती है। खाना पचाने के बाद अपशिष्ट पदार्थ कोलन मे जमा हो जाता है और मल के रूप में बाहर निकलता है। लेकिन कई बार बैक्टीरिया, सूजन या अन्य किसी कारण से कोलन में इंफेक्शन हो सकता है। आमतौर पर इंफेक्शन गंदे पानी, साफ-सफाई का ध्यान न रखने या खराब खाने की वजह से हो सकता है। कोलन इंफेक्शन होने पर मरीज को पेटदर्द, गैस, कब्ज, थकान और मल त्याग में परेशानी जैसे लक्षण दिखते हैं।
कोलन इंफेक्शन से बचने के लिए हाइजीन के साथ ही आपको डायट का भी ध्यान रखना चाहिए ताकि पाचन तंत्र दुरुस्त रहे। पाचन तंत्र को ठीक रखने के लिए खाने में फाइबर युक्त आहार के साथ ही इन चीज़ों को भी शामिल करें।
पपीता
पपीता सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है, खासतौर पर पेट के लिए। इसलिए जिन्हें पाचन संबंधी समस्या, कब्ज आदि हो उन्हें पपीता ज़रूर खाना चाहिए। इसमें मौजूद तत्व कोलन को साफ करके इसे हेल्दी बनाए रखने में मदद करते हैं।
 

इसे भी पढ़ें: कॉफी छोड़ने पर शरीर में होते हैं यह बड़े बदलाव

लौंग
हर घर में मसालों के रूप में इस्तेमाल होने वाला लौंग एंटीऑक्सिडेंट से भरपूप होता है और यह बैक्टीरिया से लड़ने व कैंसर से बचाने में भी मददगार है। लौंग के सेवन से कोलन से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, जिससे पेट के अल्सर का खतरा कम हो जाता है।
 
एलोवेरा
चेहरे और बालों के लिए वरदान माना जाने वाला एलोवेरा कोलन को भी साफ रखने में मदद करता है, तभी तो इसे डिटॉक्सिफायर कहा जाता है। यह आंतों में जमा होने वाले अपशिष्ट को बाहर निकालने में मदद करता है।
आम
आम स्वादिष्ट होने के साथ ही फाइबर से भी भरपूर होता है इसलिए पाचन तंत्र को ठीक रखने में अहम भूमिका निभाता है। अधिक फाइबर के कारण यह न सिर्फ पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है, बल्कि आंतों को भी साफ रखने में मदद करता है।
 

इसे भी पढ़ें: डेस्क जॉब में भी हड्डियां नहीं होंगी कमजोर, बस इन टिप्स की लें मदद

सेब
सेहत का खजाना सेब आपके कोलन को भी हेल्दी बनाए रखने में मदद करता है। सेब में फाइबर के साथ ही कैंसर रोधी गुण होते हैं जो कोलन को इंफेक्शन से बचाने के साथ ही मलाशय से हानिकारक टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करता है।
 
कद्दू के बीज
सिर्फ ड्राई फ्रूट्स ही नहीं, कद्दू के बीज भी आपके लिए फायदेमंद होते हैं। यह कोलन इंफेक्शन को बढ़ने से रोकने में मदद करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर कद्दू के बीच आपकी आंतों को साफ और हेल्दी बनाए रखते हैं।
– कंचन सिंह