क्या आप जानते हैं हल्दी वाला दूध पीने के जबरदस्त फायदो के बारे में

क्या आप जानते हैं हल्दी वाला दूध पीने के जबरदस्त फायदो के बारे में

आयुष मंत्रालय द्वारा समय-समय पर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के टिप्स देते रहता है। वहीं मंत्रालय ने बताया है कि इम्युनिटी बढ़ाने और स्वस्थ रहने के लिए हल्दी वाला दूध पीना कितना फायदेमंद है। ऐसे में अगर आप भी कोरोना वायरस या अन्य बीमारियों से बचे रहना चाहते हैं तो रोजाना 1 गिलास हल्दी वाला दूध जरूर पीएं।

क्यों फायदेमंद है हल्दी वाला दूध?
जहां हल्दी में औषधीय व एंटी-सैप्टीक गुण होते हैं वहीं विटामिन्स, थाइमिन, निकोटिनिक एसिड, कैल्शियम, फास्फोरस, सोडियम और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से भरपूर दूध को भी संपूर्ण आहार माना जाता है। ऐसे में अगर इन दोनों का एक-साथ सेवन किया जाए तो आप दोगुणा लाभ मिलता है।

कब पीना चाहिए हल्दी वाला दूध?
वैसे तो आप रोजाना हल्दी वाला दूध पी सकते हैं लेकिन अगर आप यह पसंद नहीं है तो हफ्ते में कम से कम 2 बार इसका सेवन जरूर करें। साथ ही इसमें चीनी की बजाए शहद का इस्तेमाल करें। अगर आप इसे रात के समय में ले रहे हैं तो इसमें काली मिर्च या जायफल भी शामिल कर सकते हैं।

इम्यूनिटी बढ़ाए
हल्दी वाला दूध पीने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, जिससे शरीर को बैक्टीरियल व वायरस बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलती है।

अच्छी नींद दिलाए
अगर आपको नींद नहीं आती और तनाव रहता है तो हल्दी वाला दूध जरूर पीएं। इसमें मौजूद अमिनों एसिड तनाव दूर करने और अच्छी नींद दिलाने में मददगार है।

माइग्रेन दर्द से राहत
माइग्रेन दर्द हो रहा है तो हल्दी का दूध पीएं। यह रक्तसंचार को बेहतर बनाता है जिससे माइग्रेन और सिरदर्द की समस्या से निजात मिलती है।

वजन घटाने में फायदेमंद
हल्दी में थर्मोजैनिक प्रॉपर्टीज होती है, जो मेटाबॉलिज्म तेज करती हैं। इससे कैलोरी जल्दी बर्न हो जाती है और वजन घटाने में मदद मिलती है।

बेहतर पाचन क्रिया
एंटी-ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर हल्दी वाला दूध पाचन क्रिया को ठीक रखता है, जिससे कब्ज, एसिडिटी जैसी प्रॉब्लम्स नहीं होती।

जोड़ों में दर्द से राहत
हल्दी वाला दूध मांसपेशियों की सूजन, जोड़ों में दर्द या किसी अन्य बॉडी पेन को भी दूर करता है। इसके अलावा आप दूध में गुड़, शहद या इलायची मिलाकर भी पी सकते हैं।

अस्थमा और कफ की समस्या
हल्दी एंटी माइक्रोबियल है इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं में आराम हो सकता है।

त्वचा के लिए भी फायदेमंद
इसमें एंटीसेप्टिक व एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो स्किन को डिटॉक्स करते हैं। साथ ही इससे स्किन ग्लो भी करती है।