कमजोर और साधारण पासवर्ड होने से हैकिंग हमले आसान

Facebook


आम तौर पर हम में से अधिकतर लोग अलग-अलग वेबसाइट का इस्तेमाल करने के लिए अलग-अलग अकाउंट बनाते हैं, जिनको सुरक्षित रखने के लिए साधारण पासवर्ड या फिर एक ही पासवर्ड का उपयोग करते हैं। क्योंकि ऐसा करने से पासवर्ड याद रखना आसान हो जाता है। परन्तु लोगों की यह लापरवाही उन पर भारी पड़ सकती है और इससे उनका सारा निजी डाटा लीक हो सकता है। वहीं, रिसर्च कंपनी सिक्यॉर लिंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि करीब 80 फीसदी हैकिंग अटैक कमजोर या साधारण पासवर्ड के कारण होते हैं। साथ ही रिपोर्ट में आगे यह भी कहा गया है कि 2017 में कमजोर पासवर्ड की वजह से ही ज्यादातर हैकिंग अटैक हुए थे।

फिशिंग अटैक का इस्तेमाल कर चोरी करते हैं पासवर्ड

सिक्यॉर लिंक की रिपोर्ट के मुताबिक, हैकर्स यूजर्स का डाटा चोरी करने के लिए फिशिंग अटैक का तरीका अपनाते हैं। इसके जरिए वह यूजर के नाम और पासवर्ड जैसी जानकारी हासिल करते हैं और अकाउंट हैक कर उनका सारा डाटा चुरा लेते हैं। वहीं, हैकिंग का खतरा तब और भी बढ़ जाता है जब यूजर्स अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग पासवर्ड की बजाय एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं।

अलग-अलग वेबसाइट पर करते हैं एक पासवर्ड का इस्तेमाल

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यूजर्स पासवर्ड भूल जाने के डर के कारण ही अलग-अलग वेबसाइट पर एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं। इससे हैकर्स का काम आसान हो जाता है और वह किसी एक अकाउंट का पासवर्ड पता करके सभी प्लेटफॉर्म पर मौजूद डाटा चुरा लेते हैं।

अपना पासवर्ड बनाएं स्ट्रॉन्ग

अगर आप हैकर्स का शिकार होने से बचना चाहते हैं, तो आपको अपना पासवर्ड स्ट्रॉन्ग बनाना चाहिए। साथ ही पासवर्ड में नंबर के साथ स्पेशल कैरेक्टर का इस्तेमाल चाहिए। इसके अलावा आप मल्टी-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का भी उपयोग कर सकते है।

दो से ज्यादा अकाउंट के पासवर्ड एक जैसे न रखें

निजी डाटा को पूरी तरह से सुरक्षित रखने के लिए कभी भी दो या दो से अधिक अकाउंट का एक जैसा पासवर्ड न रखें। इसके अलावा आप पासवर्ड बनाने के लिए मास्टर-पासवर्ड जैसे पासवर्ड मेकर एप्स का भी सहारा ले सकते हैं।

आम तौर पर हम में से अधिकतर लोग अलग-अलग वेबसाइट का इस्तेमाल करने के लिए अलग-अलग अकाउंट बनाते हैं, जिनको सुरक्षित रखने के लिए साधारण पासवर्ड या फिर एक ही पासवर्ड का उपयोग करते हैं। क्योंकि ऐसा करने से पासवर्ड याद रखना आसान हो जाता है। परन्तु लोगों की यह लापरवाही उन पर भारी पड़ सकती है और इससे उनका सारा निजी डाटा लीक हो सकता है। वहीं, रिसर्च कंपनी सिक्यॉर लिंक की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि करीब 80 फीसदी हैकिंग अटैक कमजोर या साधारण पासवर्ड के कारण होते हैं। साथ ही रिपोर्ट में आगे यह भी कहा गया है कि 2017 में कमजोर पासवर्ड की वजह से ही ज्यादातर हैकिंग अटैक हुए थे।

फिशिंग अटैक का इस्तेमाल कर चोरी करते हैं पासवर्ड

सिक्यॉर लिंक की रिपोर्ट के मुताबिक, हैकर्स यूजर्स का डाटा चोरी करने के लिए फिशिंग अटैक का तरीका अपनाते हैं। इसके जरिए वह यूजर के नाम और पासवर्ड जैसी जानकारी हासिल करते हैं और अकाउंट हैक कर उनका सारा डाटा चुरा लेते हैं। वहीं, हैकिंग का खतरा तब और भी बढ़ जाता है जब यूजर्स अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर अलग-अलग पासवर्ड की बजाय एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं।

अलग-अलग वेबसाइट पर करते हैं एक पासवर्ड का इस्तेमाल

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यूजर्स पासवर्ड भूल जाने के डर के कारण ही अलग-अलग वेबसाइट पर एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल करते हैं। इससे हैकर्स का काम आसान हो जाता है और वह किसी एक अकाउंट का पासवर्ड पता करके सभी प्लेटफॉर्म पर मौजूद डाटा चुरा लेते हैं।

अपना पासवर्ड बनाएं स्ट्रॉन्ग

अगर आप हैकर्स का शिकार होने से बचना चाहते हैं, तो आपको अपना पासवर्ड स्ट्रॉन्ग बनाना चाहिए। साथ ही पासवर्ड में नंबर के साथ स्पेशल कैरेक्टर का इस्तेमाल चाहिए। इसके अलावा आप मल्टी-फैक्टर ऑथेंटिकेशन का भी उपयोग कर सकते है।

दो से ज्यादा अकाउंट के पासवर्ड एक जैसे न रखें

निजी डाटा को पूरी तरह से सुरक्षित रखने के लिए कभी भी दो या दो से अधिक अकाउंट का एक जैसा पासवर्ड न रखें। इसके अलावा आप पासवर्ड बनाने के लिए मास्टर-पासवर्ड जैसे पासवर्ड मेकर एप्स का भी सहारा ले सकते हैं।