उत्तराखंड की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है बर्फ से ढका औली

उत्तराखंड की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है बर्फ से ढका औली


उत्तराखंड की खूबसूरत वादियों में बसा औली उत्तर भारत का मिनी स्विट्जरलैंड कहा जाता है। यहां की खूबसूरती को निहारते रहने का ही मन करता है.. सूरज की किरणें जब बर्फ से ढके पहाड़ पर पड़ती है तो मानों ऐसा लगता है कि सुबह पहाड़ सूरज की रोशनी में नहा कर आये हो। मीलों दूर तक पसरी सफेद बर्फ की चादर पर जीभर कर खेलने का आनंद और औली में ले सकते हैं। यहाँ पर देवदार के पेड़ काफी ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं। इनकी पेड़ों की महक यहाँ की ठंडी और ताजी हवाओं में महसूस की जा सकती है। औली में आप खूबसूरती के अलावा यहां की एडवेंचर एक्टिविटी का भी लुफ्त उठा सकते हैं। 
 
प्राकृतिक सुंदरता
औली अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए दुनियाभर में मशहूर है। यहां कि सुंदरता को निहारने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। सर्दियों के मौसम में यहां पर खूब बर्फबारी होती हैं जिसका आनंद लेने के लिए पर्यटकों की संख्या काफी बढ़ जाती है, साथ ही चारों तरफ बर्फ की चादर बिछने के बाद यहां की सुंदरता दस गुना ज्यादा बढ़ जाती है। यहाँ पर कपास जैसी मुलायम बर्फ पड़ती है और पर्यटक खासकर बच्चे इस बर्फ में खूब खेलते हैं। औली तक पहुंचने के लिए देश के सबसे तेज स्पीड वाला रोप वे बनाया गया है। ये रोप वे जब जंगल के ऊपर से गुजरता है तो बर्फ से ढकी चोटियों और ढलानों को देखकर मन प्रसन्न हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें: रहस्य, रोमांच और आश्चर्य की अनोखी दुनिया रामोजी फ़िल्म सिटी

औली में क्या-क्या करना चाहिए
सबसे पहले तो वहां की खूबसूरती का आनंद उठाना चाहिए। अगर आपको ट्रेकिंग करने का शौक है तो ज्यादा नहीं लेकिन छोटे-छोटे ट्रेक पॉइंट है जहां पर आप ट्रेक कर सकते हैं। इसके अलावा यहां पर काफी स्पोर्ट्स एक्टिविटी भी है। यहां पर आप बर्फ में गाड़ी चला सकते हैं और स्लेज भी कर सकते हैं। स्कीइंग के लिए औली हर दुनिया में जाना जाता है। स्कीइंग का यहां पर सबसे बड़ा पॉइंट है। नंदा देवी के पीछे सूर्योदय देखना एक बहुत ही सुखद अनुभव है। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान यहाँ से 41 किलोमीटर दूर है। शहर की भागती-दौड़ती जिंदगी से दूर औली एक बहुत ही बेहतरीन पर्यटक स्थल है। 
 
औली जाकर कहां ठहरें
वैसे तो आप औली में अपने बजट के हिसाब से किसी भी होटल या रिजॉर्ट में ठहर सकते हैं लेकिन एक मशहूर ठहरने की जगह बताए तो और औली में गढ़वाल विकास निगम ने एक गेस्ट हाउस बनाया हुआ है जो अच्छी लोकेशन पर है और बजट के अनुसार भी ठीक है, आप वहां रुक सकते हैं। इसमें 110 कमरे हैं और कम बजट में औली घूमने वाले यहां ज्यादा संख्या में रूकते हैं। सुविधाओं के हिसाब से भी यह काफी अच्छी जगह है। भारत-तिब्बत पुलिस का भी यहां पर रेस्टोरेंट है।

इसे भी पढ़ें: हिमालय की गोद में बसा है शंकर का धाम केदारनाथ

कैसे जाएं औली
भारत के किसी भी हिस्से से आप अगर औली घूमने आ रहे हैं तो औली के पास देहरादून का जौली ग्रांट एयरपोर्ट है। एयरपोर्ट से उतरकर आप औली तक जाने के लिए टैक्सी ले सकते हैं जो आपको एयरपोर्ट के बाहर ही मिल जाएगी। अगर आप ट्रेन से आते हैं तो नजदीकी रेलवे स्टेशन हरिद्वार है, जो यहां से तकरीबन 299 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। इसके अलवा उत्तराखंड के नजदीक राज्यों से आने वालें यहां अपनी प्राइवेट गाड़ी से आ सकते हैं। गूगल पर आप लोकेशन लेकर यहां आ सकते हैं। जोशीमठ के पास आपको रास्ता थोड़ा खराब मिल सकता है।
 
– रेनू तिवारी