आरोग्य सेतु के बाद AarogyaPath पोर्टल हुआ लॉन्च

Facebook


भारत सरकार ने संक्रमण से लड़ने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रैसिंग एप आरोग्य सेतु को लॉन्च किया था, वहीं अब सरकार ने आरोग्यपथ (AarogyaPath) नाम के पोर्टल को लॉन्च किया है। आरोग्यपथ पोर्टल पर लोगों को हेल्थकेयर प्रोडक्ट की सप्लाई की जानकारी रियल टाइम में मिलेगी। आरोग्यपथ पोर्टल को AarogyaPath.in के साथ एक्सेस किया जा सकता है।आरोग्यपथ को काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्री रिसर्च (CSIR) ने लॉन्च किया है। 

इस पोर्टल से उत्पादक और सप्लायर दोनों को अस्पताल, लैब और मेडिकल स्टोर तक अपने ग्राहकों तक पहुंचने में मदद मिलेगी। सीएसआईआर को इस पोर्टल से उम्मीद है कि इससे हेल्थकेयर प्रोडक्ट की सप्लाई में सुधार होगा। इसके अलावा समय रहते लोगों को जरूरी चीजों के बारे में पता चल सकेगा और चीजें उपलब्ध हो सकेंगी। यह पोर्टल  खरीदारों के विस्तारित स्लेट और उत्पादों के लिए नई आवश्यकताओं में पारदर्शिता के कारण व्यवसाय विस्तार के अवसर भी पैदा करेगा।

बता दें कि भारत के कॉन्टेक्ट ट्रैसिंग एप आरोग्य सेतु को अभी तक 12.99 करोड़ लोगों ने डाउनलोड कर लिया है। आरोग्य सेतु ने डाउनलोडिंग का यह आंकड़ा तीन महीने से भी कम समय में पार किया है। आरोग्य सेतु एप की प्राइवेसी को लेकर भी बवाल हुआ था जिसके बाद सरकार ने एप के एंड्रॉयड वर्जन का सोर्स कोड सार्वजिनक किया। सोर्स कोड सार्वजनिक होने के बाद कोई भी डेवलपर यह पता लगा सकता है कि एप यूजर्स का कौन-कौन सा डाटा एक्सेस कर रहा है।

भारत सरकार ने संक्रमण से लड़ने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रैसिंग एप आरोग्य सेतु को लॉन्च किया था, वहीं अब सरकार ने आरोग्यपथ (AarogyaPath) नाम के पोर्टल को लॉन्च किया है। आरोग्यपथ पोर्टल पर लोगों को हेल्थकेयर प्रोडक्ट की सप्लाई की जानकारी रियल टाइम में मिलेगी। आरोग्यपथ पोर्टल को AarogyaPath.in के साथ एक्सेस किया जा सकता है।आरोग्यपथ को काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्री रिसर्च (CSIR) ने लॉन्च किया है। 

इस पोर्टल से उत्पादक और सप्लायर दोनों को अस्पताल, लैब और मेडिकल स्टोर तक अपने ग्राहकों तक पहुंचने में मदद मिलेगी। सीएसआईआर को इस पोर्टल से उम्मीद है कि इससे हेल्थकेयर प्रोडक्ट की सप्लाई में सुधार होगा। इसके अलावा समय रहते लोगों को जरूरी चीजों के बारे में पता चल सकेगा और चीजें उपलब्ध हो सकेंगी। यह पोर्टल  खरीदारों के विस्तारित स्लेट और उत्पादों के लिए नई आवश्यकताओं में पारदर्शिता के कारण व्यवसाय विस्तार के अवसर भी पैदा करेगा।

बता दें कि भारत के कॉन्टेक्ट ट्रैसिंग एप आरोग्य सेतु को अभी तक 12.99 करोड़ लोगों ने डाउनलोड कर लिया है। आरोग्य सेतु ने डाउनलोडिंग का यह आंकड़ा तीन महीने से भी कम समय में पार किया है। आरोग्य सेतु एप की प्राइवेसी को लेकर भी बवाल हुआ था जिसके बाद सरकार ने एप के एंड्रॉयड वर्जन का सोर्स कोड सार्वजिनक किया। सोर्स कोड सार्वजनिक होने के बाद कोई भी डेवलपर यह पता लगा सकता है कि एप यूजर्स का कौन-कौन सा डाटा एक्सेस कर रहा है।