अजय माकन बोले- दोनों खेमों के MLA से बात कर सुनेंगे शिकायत

अजय माकन

कमेटी कैसे काम करेगी, इसकी प्रक्रिया पर चर्चा हुई है. किन-किन विधायकों को बुलाकर कैसे-कैसे सुनेगी शिकायतें, इस पर निर्णय हुआ है.

Written By : लालसिंह फौजदार | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 18 Aug 2020, 06:04:07 PM

अजय माकन (Photo Credit: अजय माकन (फाइल फोटो))

जयपुर:

राजस्थान में सियासी संकट टलने के बाद अब कांग्रेस द्वारा गठित तीन सदस्य कमेटी सक्रिय हो गई है. सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि अजय माकन के प्रदेश प्रभारी पद ग्रहण करने के साथ ही कमेटी सक्रिय हो गई है. पदभार संभालते ही माकन ने अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की है. कमेटी कैसे काम करेगी, इसकी प्रक्रिया पर चर्चा हुई है. किन-किन विधायकों को बुलाकर कैसे-कैसे सुनेगी शिकायतें, इस पर निर्णय हुआ है. राजस्थान राजनीतिक घटनाक्रम पर अजय माकन ने कहा कि हम दोनों खेमों के विधायकों से बात करेंगे और शिकायतें सुनेंगे. राहुल और प्रियंका गांधी पूरे प्रकरण को लेकर गंभीर है. इसी बीच खबर है कि जयपुर लौटने से पहले पायलट अहमद पटेल से मुलाकात कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- रिया के वकील का दावा, प्रियंका की बदतमीजी से बिगड़ गए थे सुशांत से उनके रिश्ते

अब बीजेपी में गुटबाजी का डर 

राजस्थान में कांग्रेस का सियासी संकट तो टल गया. लेकिन अब बीजेपी में गुटबाजी का डर सताने लगा है. भाजपा में गुटबाजी की आहट से केंद्रीय नेतृत्व सतर्क हो गया है. प्रदेश भाजपा के हर कदम पर आलाकमान की पूरी नजर रहेगी. प्रदेश नेताओं के हर मूवमेंट की पूरी मॉनिटरिंग होगी . गुटबाजी मसले पर कुछ पदाधिकारियों पर भी गाज गिर सकती है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि प्रदेश में भाजपा कुछ संगठनात्मक बदलाव करने की तैयारी में है. पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट का राष्ट्रीय नेतृत्व अध्ययन कर चुका है. विधानसभा में 4 विधायकों की गैर हाजिरी पर भी रिपोर्ट तलब की है. इस बीच नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने बयान दिया है.

यह भी पढ़ें- सुशांत को मुश्किल हालात में छोड़कर क्यों गई रिया चक्रवर्ती, वकील विकास सिंह ने उठाए सवाल

4 विधायकों से 20 अगस्त को पूछ्ताछ होगी

उन्होंने कहा कि इस 4 विधायकों से 20 अगस्त को पूछ्ताछ होगी. वहीं दूसरी तरफ गहलोत कैबिनेट विस्तार का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा है. सियासी संकट के टलने के बाद इंतजार हो रहा है. तीन सदस्यीय समिति की रिपोर्ट के बाद ही विस्तार होगा. कमेटी की रिपोर्ट के बाद आलाकमान हरी झंडी देगा. गहलोत से विस्तृत चर्चा करने के बाद ही हरी झंडी मिलेगी. मंत्रिमंडल विस्तार के बाद राजनैतिक नियुक्तियां भी होंगी. वर्तमान में मंत्रिमंडल में मुख्यमंत्री सहित 22 मंत्री हैं. ऐसे में 8 और विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है. अलबत्ता गहलोत और पायलट दोनों कैंप पांच-पांच मंत्रियों की मांग कर रहे हैं.


First Published : 18 Aug 2020, 06:01:51 PM

For all the Latest States News, Rajasthan News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.